नई दिल्ली: दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपराज्यपाल अनिल बैजल पर उनकी सरकार को पंगु बनाने का प्रयास करने का शुक्रवार को आरोप लगाया. उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को मिले पांच अधिकारों को उनकी सरकार को भी दिए जाने की मांग की.

उपराज्यपाल कार्यालय के कामकाज पर एक रिपोर्ट पर विधानसभा में एक चर्चा के दौरान अपने भाषण में केजरीवाल ने जिन शक्तियों का जिक्र किया उनमें सरकारी अधिकारियों के खिलाफ सतर्कता और अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का अधिकार भी शामिल हैं.

उन्होंने आरोप लगाया कि बैजल केवल भाजपा के प्रति उत्तरदायी है. दिल्ली के लोगों के प्रति वह उत्तरदायी नहीं है. उन्होंने कहा कि उपराज्यपाल के पास बिना किसी जिम्मेदारी और जवाबदेही के पूर्ण अधिकार है जबकि दिल्ली सरकार बिना किसी शक्ति हरेक चीज के लिए उत्तरदायी है.

मुख्यमंत्री ने उपराज्यपाल पर आम आदमी पार्टी सरकार के कामकाज में बाधाएं उत्पन्न करने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, ‘‘एलजी एक हेडमास्टर की तरह बर्ताव कर रहे हैं, यहां तक कि हमारे शिक्षकों ने भी हमें इतना परेशान नहीं किया था.’’

उन्होंने कहा, ‘‘शीला दीक्षित सरकार के पास पांच शक्तियां थीं जिनमें सरकारी अधिकारियों के खिलाफ सतर्कता और अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का अधिकार, रिक्त पदों पर भर्ती आदि शामिल हैं. शीला दीक्षित की अगुआई वाली सरकार को हर फाइल एलजी कार्यालय के पास भेजने के लिए मजबूर नहीं किया जाता था.’’

केजरीवाल ने बैजल का उपहास उड़ाते हुए कहा कि क्या एलजी किसी के भी प्रति जवाबदेह है. ‘‘क्या वह इंग्लैंड की रानी, अमेरिका के राष्ट्रपति ,भारत के प्रधानमंत्री के प्रति जवाबदेह हैं. वह किसी के प्रति जवाबदेह नहीं हैं. वह केवल भाजपा के प्रति जवाबदेह है.’’