कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस ने जीएसटी, चीन के साथ गतिरोध और दार्जीलिंग संकट जैसे मुद्दों से निपटने में कथित ‘‘नाकामियों’’ को लेकर संसद के मानसून सत्र में मोदी सरकार पर ‘‘जोरदार हमला’’ बोलने तथा उसे घेरने का फैसला किया है. पार्टी के संसदीय दल ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अध्यक्षता में हुयी एक बैठक में इसका फैसला किया.

बैठक का आयोजन संसद के मानसून सत्र में पार्टी की रणनीति तय करने के लिए किया गया था. लोकसभा में पार्टी के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने भी बैठक में भाग लिया. उन्हें रोज वैली घोटाले में मई महीने में जमानत मिली थी. मीडिया को बैठक के बारे में जानकारी देते हुए बनर्जी ने कहा, ‘‘हम संसद में आक्रामक भूमिका निभाएंगे. हम जेल जाने को तैयार हैं लेकिन हम अपने सिर नहीं झुकाएंगे.

पार्टी के एक वरिष्ठ लोकसभा सदस्य ने नाम उजागर नहीं करने की शर्त के साथ पीटीआई से कहा कि बैठक के दौरान उन्होंने देश की आंतरिक और बाह्य सुरक्षा के लिए चिंता वाले मुद्दों से निपटने में ‘नाकाम’ रहने को लेकर मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोलने का साफ निर्देश दिया.

उन्होंने कहा, ‘‘यह फैसला किया गया कि हम संसद में मोदी सरकार पर जोरदार हमला बोलेंगे. हम अन्य विपक्षी दलों को भी एकजुट करेंगे. हमने इस संबंध मे अन्य दलों के साथ बातचीत शुरू कर दी है.