बदरीनाथ। पिछले कुछ समय से चमोली जिले में लगातार हो रही बारिश यात्रियों के लिए मुसीबत बन गई है। ताजा खबर के मुताबिक विष्णुप्रयाग के पास हाथीपहाड़ में भूस्खलन से बदरीनाथ हाईवे बंद हो गया है। हाईवे पर करीब 15 हजार यात्री फंसे हुए हैं। बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर 2016 में उभरा हाथीपहाड़ भूस्खलन जोन पर पहाड़ी खिसकने से एक बार फिर यह हाईवे बाधित हुआ है।

बताया जा रहा है कि शुक्रवार दोपहर के वक्त हाथीपहाड़ में चट्टान से हाईवे पर पत्थर गिरने शुरू हुए थे। जानकारी मिलते ही दोपहर करीब ढाई बजे प्रशासन ने पर्यटकों और यात्रियों के वाहनों को रोकना शुरू किया। इसके बाद करीब साढ़े तीन बजे हाथीपहाड़ में अचानक चट्टान टूटकर गिरने के बाद हाईवे का 50 मीटर हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया।

इसके चलते हाथीपहाड़ में दोनों छोरों पर 500 से अधिक छोटे बड़े वाहन फंस गए हैं। बदरीनाथ धाम में फंसे यात्रियों को फिलहाल वहीं रुकने के लिए कहा गया है, जबकि बदरीनाथ धाम जाने वाले यात्रियों को जोशीमठ, पीपलकोटी, चमोली सहित अन्य स्थानों पर रुकने के लिए कहा गया है।

 

बताया जा रहा है कि बदरीनाथ धाम में करीब 15 हजार यात्री फंसे हुए हैं, जबकि अन्य यात्रा पड़ावों पर दस हजार यात्री मौजूद हैं। हाथीपहाड़ से बदरीनाथ की ओर फंसे यात्रियों को प्रशासन ने गोविंदघाट गुरुद्वारे में ठहराने की व्यवस्था की है। प्रशासन के निर्देशों पर गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने भोजन की भी व्यवस्था की है।

इस संबंध में जिलाधिकारी आशीष जोशी का कहना है कि गुरुद्वारे में ठहरने व खाने की पर्याप्त व्यवस्था मौजूद है। हाईवे कल तक खुलने की उम्मीद है। ऐसे में यात्रियों को कर्णप्रयाग, नंदप्रयाग, चमोली, पीपलकोटी, जोशीमठ में रोका जा रहा है। बदरीनाथ में मौजूद यात्रियों को बदरीनाथ ही रोक दिया गया है।