नई दिल्लीः राज्यसभा से रिटायर हो रहे 60 सदस्यों की विदाई के मौके पर बुधवार को सदन में खुशनुमा माहौल देखा गया. इस बीच सदन के सभापति वेंकैया नायडू ने मजाकिया अंदाज में कांग्रेस की वरिष्ठ नेता रेणुका चौधरी को लेकर एक बात कही, जिससे पूरे सदन में जोरदार ढहाके लगे. दरअसल, सदस्यों की विदाई के मौके पर रेणुका ने भी भाषण दिया. इसी दौरान उन्होंने सभापति को संबोधित करते हुए कहा, “वह (नायडू) कई किलो पहले से मुझे जानते हैं. सर कई लोग मेरे वजन को लेकर चिंतित हैं लेकिन इस काम में आपको अपना वजन दिखाना पड़ता है.” इस पर नायडू ने भी टिप्पणी करने में देरी नहीं की. उन्होंने कहा कि मेरा एक सिंपल सुझाव है कि आप अपना वजन घटाइए और अपनी पार्टी का वजन बढ़ाने की कोशिश कीजिए. इस पर सदन में खूब ढहाके लगे.

इसी तरह रेणुका ने ऊपरी सदन में अपने राजनीतिक सफर के बारे में चर्चा की. उन्होंने कहा कि उन्हें एक सौभाग्य मिला था. डिप्टी चेयर के पद के लिए नजमा हेप्तुल्लाह के खिलाफ उन्हें समूचे विपक्ष ने समर्थन दिया था. इसके बाद नायडू ने भी तुरंत टिप्पणी की कि इस तरह से कई समस्याएं खत्म हो गई होंगी. रेणुका ने आगे कहा कि शाह बानो से लेकर शूर्पणखा तक उन्होंने इस सदन को बनते हुए देखा है. हालांकि उन्होंने कहा कि सदन में महिला सांसदों की संख्या में उल्लेखनीय बढ़ोतरी नहीं हुई है. यह निराशाजनक है कि आज भी राज्यसभा में केवल 11 फीसदी महिला सांसद हैं. मैं सही मायने में सोचती हूं कि हमें और अधिक महिला सांसद चाहिए.

पीएम मोदी ने कहा, रिटायर होने वाले सांसदों के लिए PMO के दरवाजे खुले रहेंगे

इस चर्चा के दौरान कांग्रेस की रजनी पाटिल ने कहा कि यह उनकी किस्मत रही कि उन्होंने न तो लोकसभा और न ही राज्यसभा में अपना कार्यकाल पूरा किया. इस पर फिर नायडू ने टिप्पणी की कि आप फिर से लोकसभा चले जाइए. इस पर भी सदन में खूब ठहाके लगे.

सदन में जारी रहा व्यवधान
वैसे विभिन्न मुद्दों पर आज भी कांग्रेस एवं अन्य दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण सदन में व्यवधान जारी रहा. बाद में बैठक को पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया गया. उच्च सदन में आज बैठक शुरू होने पर सेवानिवृत्त होने जा रहे सदस्यों को सदन की ओर से विदाई दी गई. सभापति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, उपसभापति पी जे कुरियन, सदन के नेता अरूण जेटली तथा नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद, विभिन्न दलों के नेताओं ने सेवानिवृत्त होने जा रहे इन सदस्यों के योगदान की चर्चा करते हुए उनके बेहतर भविष्य की कामना की.

सेवानिवृत्त होने जा रहे सदस्यों ने भी सदन में अपने अनुभवों को साझा किया. जिन सदस्यों का कार्यकाल पूरा हो रहा है, उनमें उपसभापति पी जे कुरियन, सदन के नेता अरूण जेटली, केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, भाजपा के बासवाराज पाटिल, रंगसायी रामकृष्णन, कांग्रेस नेता के रहमान खान, सत्यव्रत चतुर्वेदी, राजीव शुक्ला, रेणुका चौधरी, राकांपा के डी पी त्रिपाठी, सपा के नरेश अग्रवाल, बीजद के दिलीप टिर्की के अलावा मनोनीत सदस्य रेखा तथा सचिन तेंदुलकर भी शामिल हैं.