मैसूरू: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को कहा कि वह देश में राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के प्रशिक्षण और फायदों से अनभिज्ञ हैं. महारानी आर्ट्स एंड कॉमर्स कॉलेज की एक छात्रा ने राहुल से पूछा था कि ‘सी’ सर्टिफिकेट पास करने वाले एनसीसी कैडे्टस को दिए जाने वाले लाभ में क्या वह बढ़ोतरी करना चाहेंगे. इस पर राहुल ने स्वीकार किया कि वह इस प्रशिक्षण से ‘अनभिज्ञ’ हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, “मुझे एनसीसी प्रशिक्षण के बारे में विस्तृत जानकारी नहीं है, इसलिए मैं इसका जवाब नहीं दे पाऊंगा. लेकिन एक नौजवान भारतीय व्यक्ति के नाते, मैं आपको वह मौका देना चाहूंगा जहां आपको कई अवसर मिलें, सफल शिक्षा मिले और बेहतर भविष्य मिले.”

हालांकि, इसके बाद उन्हें इंटरनेट पर ट्रोलिंग का शिकार होना पड़ा. वहां मौजूद छात्रों ने भी इस पर रोष जताया. छात्रों ने कहा कि एनसीसी सामाजिक कार्य करती है, इसलिए उन्हें इसके बारे में पता होना चाहिए.

राहुल यहां राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर अपने दो दिवसीय यात्रा के अंतर्गत कर्नाटक के पुराने मैसूरू क्षेत्र में आए. वे यहां 30 मिनट के संवाद के दौरान छात्रों को उनके सवालों का जवाब दे रहे थे. यहां से वे चमराजनर पहुंचे जहां उन्होंने रोड शो किया और कोलेगला में इंदिरा कैंटीन का उद्घाटन भी किया.

रक्षा मंत्रालय के अंतर्गत संचालित एनसीसी उच्च विद्यालयों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में कैडेटों को सैन्य प्रशिक्षण मुहैया कराती है. वॉलंट्री कार्यक्रम के तहत, छात्रों को ‘ए’, ‘बी’, ‘सी’ स्तर के सर्टिफिकेट दिए जाते हैं. ‘सी’ स्तर का सर्टिफिकेट इसके तहत दिया जाने वाला सबसे उच्च स्तरीय सर्टिफिकेट है, जिससे छात्रों को देश में सैन्य और सरकारी सेवाओं में विशेष तौर पर प्रवेश मिलता है और प्रतियोगी परीक्षाओं में भी वरीयता दी जाती है.