बेंगलुरू: विधानसभा चुनावों के सिलसिले में शुक्रवार को मैसूरू क्षेत्र के दो दिवसीय यात्रा पर पहुंचे भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की सभा में आज अजीबोगरीब नजारा देखने को मिला. शाह जब राजेंद्र कलामंदिर में दलित नेताओं के साथ बातचीत कर रहे थे, वहां खड़ी भीड़ केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के खिलाफ नारे लगाने लगे. वे लोग हेगड़े के संविधान पर दिए गए बयान पर अपना विरोध जता रहे थे. शाह के साथ मौजूद दूसरे नेताओं की मदद से बड़ी मुश्किल से विरोध करने वालों को शांत किया जा सका.

कुछ महीने पहले हेगड़े ने बयान दिया था कि देश के संविधान में कई बार बदलाव हो चुके हैं और भविष्य में भी होंगे. हम भी संविधान में बदलाव करेंगे. इस बयान के बाद आशंका जताई गई थी कि भाजपा सरकार संविधान के धर्मनिरपेक्ष स्वरूप के साथ आरक्षण व्यवस्था में भी बदलाव कर सकती है. राज्य में अब जहां विधानसभा चुनावों के लिए प्रचार जोर पकड़ रहा है, विरोधी उनके इस बयान को फिर से हवा देने की कोशिश कर रहे हैं.

बता दें कि अमित शाह अपनी ‘कर्नाटक जागृति यात्रा’ के तहत 30 और 31 मार्च को मैसुरू, चामराजनगर, मांड्या और रामानागर जिलों का दौरा करेंगे. इन चार जिलों में कुल 26 विधानसभा सीटें आती हैं. भाजपा 2013 के विधानसभा चुनाव में इनमें से एक भी सीट नहीं जीत पाई थी. पूर्व मुख्यमंत्री और राज्य जदएस प्रमुख एचडी कुमारस्वामी और वरिष्ठ मंत्री डी के शिवकुमार का इस क्षेत्र में काफी असर माना जाता है.

हाल ही में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस क्षेत्र का दो दिनों के लिए दौरा किया था. मुख्यमंत्री सिद्धरमैया भी आज से दो अप्रैल तक मैसूरू में चुनाव प्रचार करेंगे.