नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल से बड़ी खबर आ रही है. ममता बैनर्जी की सरकार ने फैसला किया है कि राज्य, मोदी सरकार की महत्वाकांशी योजना नेशनल हेल्थ प्रोटेक्शन से बाहर रहेगा.

इस योजना को मोदी केयर के नाम से भी जाना जाता है. इसके तहत केंद्र सरकार ने बजट में 50 करोड़ लोगों को स्वास्थ्य बीमा देने की घोषणा की थी. अब बंगाल के इस फैसले के बाद वो ऐसा करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है.

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, ममता बैनर्जी ने कहा है कि उनकी सरकार अपनी मेहनत से जुटाए संसाधनों को इस कार्यक्रम के कारण ‘बर्बाद’ नहीं करना चाहती.

क्या कहा ममता ने
ममता बैनर्जी ने कहा, ‘केंद्र सरकार ने जिस स्वास्थ्य योजना की घोषणा की है, उसमें 40 प्रतिशत फंड राज्यों को देना होगा. हम ये पूछते हैं कि राज्य सरकारें ऐसे कार्यक्रम के लिए पैसा क्यों खर्च करें, जो पहले से ही चल रहे हैं?

ममता ने एक जनसभा को संबोधित करने के दौरान कहा कि बंगाल में उनकी सरकार ने अस्पतालों में भर्ती व उपचार को मुफ्त कर रखा है. ऐसे में उन्हें किसी नई योजना की आवश्यकता नहीं है.