नई दिल्ली. सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि सरकार घातक सड़क दुर्घटनाओं को 50 फीसदी तक कम करने के लिए प्रतिबद्ध है. उन्होंने देश में सड़क दुर्घटनाओं में बढ़ोतरी को रोकने के लिए विकसित देशों से नई तकनीक और सर्वोत्तम परंपरा प्राप्त करने के लिए भी मदद मांगी है.

जेनेवा के अंतर्राष्ट्रीय रोड फेडरेशन द्वारा आयोजित चार दिवसीय विश्व रोड मीटिंग का उद्घाटन करते हुए गडकरी ने कहा, हम राजमार्ग परियोजनाओं और सड़क सुरक्षा पहल में नवीन तकनीकों की तलाश कर रहे हैं, क्योंकि भारत सरकार 50 प्रतिशत तक घातक सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के लिए प्रतिबद्ध है.

डेडली कॉम्बिनेशनः पहली बार सुखोई जेट से लक्ष्य भेदेगी ब्रह्मोस

डेडली कॉम्बिनेशनः पहली बार सुखोई जेट से लक्ष्य भेदेगी ब्रह्मोस

उन्होंने कहा कि सड़क दुर्घटना में होने वाली मौतों को कम करने के लिए सरकार की नीति के तहत उनके मंत्रालय ने राष्ट्रीय राजमार्गों पर 780 अधिक दुर्घटना वाले स्थानों की पहचान की है. जिन्हें अगले दो वर्षों में 12 हजार करोड़ रुपये के निवेश से सुधारा जाएगा. गडकरी ने कहा कि उनके मंत्रालय के पास सड़कों और राजमार्ग क्षेत्र के पुनरुद्धार के लिए भी प्रमुख योजनाएं हैं.

गडकरी ने कहा, सरकार ने अगले साल से रोजाना 40 किलोमीटर सड़क का निर्माण करने का एक महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किया है. वर्तमान में यह लक्ष्य 28 किलोमीटर है. इस चार दिवसीय समारोह में दुनिया के विभिन्न हिस्सों से सड़क परिवहन और गतिशीलता क्षेत्र में सक्रिय सैकड़ों वैश्विक सड़क सुरक्षा विशेषज्ञ, पेशेवर, कंपनियां और सरकारी संगठन हिस्सा ले रहे हैं.

आईआरएफ अध्यक्ष के.के. कपिला ने कहा कि यह बैठक दुनिया भर से अत्याधुनिक शोध, सर्वोत्तम प्रथाओं और अनुभवों को साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करेगी. कपिला ने कहा, सड़क, परिवहन और गतिशील क्षेत्र में सामने आने वाले महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा के लिए यह कार्यक्रम ज्ञानवर्धक सिद्ध हो सकता है.