मुंबई. शिवसेना की युवा छात्र इकाई ‘युवा सेना’ ने मुंबई विश्वविद्यालय के सीनेट चुनाव में बीजेपी की छात्र इकाई अखिल भारती विद्यार्थी परिषद (ABVP) को बुरी तरह से शिकस्त दी है. युवा सेना ने सभी 10 सीटें जीत कर नया इतिहास रचा है. युवा सेना का नेतृत्व उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे करते हैं. माना जा रहा है कि मुंबई यूनिवर्सिटी का यह चुनाव परिणाम महाराष्ट्र में नया राजनैतिक समीकरण बनाएगा और शिवसेना-बीजेपी के संबंधों को भी प्रभावित करेगा. इस जीत के साथ ठाकरे ने कुछ हद तक बीजेपी पर लीड बना ली है.

मुंबई यूनिवर्सिटी के सीनेट चुनाव के लिए 25 मार्च को वोटिंग हुई थी. खास बात ये रहा है कि युवा सेना की जीत का अंतर भी काफी ज्यादा रहा. बता दें कि साल 2010 में भी युवा सेना ने चुनाव जीता था. एबीवीपी और कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई ने युवा सेना के सामने कड़ी चुनौती पेश करने की कोशिश की, लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली.

‘सेना में विश्वास की जीत’
युवा सेना की जीत पर पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ जश्न मनाने के दौरान आदित्य ने कहा, यह ‘सेना में विश्वास की जीत’ है. उन्होंने कहा कि यह जीत इसलिए भी ‘महत्वपूर्ण’ हो जाती है क्योंकि यह एबीवीपी के खिलाफ लड़कर मिली है. सेना के हेडक्वार्टर में बातचीत करते हुए ठाकरे ने कहा, जीत का श्रेय मुझे दिया जा रहा है. लेकिन यह उस पूरी टीम की जीत है, जो पिछले आठ साल से वहां जीतोड़ मेहनत कर रही थी.

उठाते रहते हैं मुंबई यूनिवर्सिटा का मुद्दा
बता दें कि साल 2010 में सेना को 10 में से 8 सीटों पर जीत मिली थी. ठाकरे ने कहा, वहां सत्ताविरोधी लहर नहीं थी. ऐसे में वह इस बार अपनी जीत को और बेहतर कर सकें. ठाकरे पिछले काफी समय से मुंबई यूनिवर्सिटी से जुड़े कई मुद्दे उठाते रहे हैं. इसमें पिछले साल पेपर की जांच में देरी का मुद्दा प्रमुख था. ठाकरे एक प्रतिनिधिमंडल के साथ महाराष्ट्र के गवर्नर विद्यासागर राव से मिलने भी गए थे. वहां उन्होंने मुंबई यूनिवर्सिटी के कुलपति संजय देशमुख के इस्तीफे की मांग की थी.

विधानसभा में भी जीत का दिखा भरोसा
ठाकरे ने विश्वास जताया कि जैसे हमने यूनविर्सिटी सीनेट चुनाव में पिछली बार से बेहतर किया है, वैसे ही पार्टी साल 2019 में होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा में विधायकों की संख्या भी दोगुनी करेगी. रिजल्ट आने के बाद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी सेना भवन में युवा सेना के कार्यकर्ताओं को बधाई दी.