बर्लिनः पीरियड यानी मासिक धर्म के दौरान दर्द से गुजरने वाली महिलाओं के लिए एक अच्छी खबर है. इसके लिए उन्हें कोई दवा लेने की बजाय स्मार्टफोन के एक खास ऐप से राहत मिल सकती है. यह ऐप सेल्फ एक्युप्रेशर तकनीक के जरिए महिलाओं में पीरियड के दौरान होने वाली दर्द और ऐठन को कम कर देता है. पीरियड्स के दौरान 50 से 90 फीसदी महिलाएं दर्द और ऐठन से गुजरती हैं. पीरियड्स के दौरान पेट के निचले हिस्से में दर्द के अलावा महिलाओं को सिर दर्द, कमर में दर्द और उबकाई जैसी समस्याएं भी आती हैं.

दरअसल, एक्युप्रेशर पारंपरिक चाइनीज मेडिसीन का एक तरीका है. यह तकनीकी खुद की देखभाल के लिए प्रयोग किया जा सकता है और इसे घर पर भी आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है. चुभने योग्य उपाय से बेहतर इस तकनीकी में इसमें संबंधित जगह पर मसाज और प्रेसर से आराम पहुंचाया जा सकता है.

चेरिट यूनिवर्सिटिटेस्मेडिजिन बर्लिन के रिसर्चर ने 18 से 34 साल की महिलाओं में मेंसुरेशन के दौरान होने वाले दर्द पर रिसर्च किया. इस दौरान महिलाएं कई तरह की मेंसुरल दर्द से गुजरती हैं. उन्होंने पाया कि सेल्फ-एक्युप्रेशर उन्हें इस तरह के दर्द से निजात दिलाने में काफी हद तक मदद मिली. प्रसूति एवं स्त्री रोग का अमेरिकन जर्नल, 221 में प्रकाशित एक स्टडी के लिए प्रतिभागियों को ट्रीटमेंट ग्रुप में शामिल किया गया था. सभी को एक स्टडी ऐप और एक छोटा इंट्रोडक्शन मिला, जिसके बाद टीम निष्कर्ष तक पहुंची.

इंस्टीट्यूट के मुताबिक, हम सिर्फ यह जानना चाहते थे कि सेल्फ केयर तकनीकी मेंसुरल दर्द में कितनी फायदेमंद साबित हो सकती है. ये ऐप पार्टिशिपेंट को तीन अलग-अलग एक्युप्रेशर प्वाइंट पर साधारण सेल्फ-एक्युप्रेशर तकनीकी अप्लाई करने में सहायता करेगा. छह महीने बाद हम देखते हैं कि दो तिहाई पार्टिशिपेंट सेल्फ एक्यप्रेशर को लगातार प्रयोग कर रहे हैं.