नई दिल्‍ली: नवरात्र‍ि के नौ दिनों के दौरान मां दुर्गा के नौ अलग-अलग स्‍वरूपों की पूजा होती है. हर स्‍वरूप का अलग महत्‍व है. आज चैत्र नवरात्र‍ि का सातवां दिन है. आज मां कें सातवें स्‍वरूप मां कालरात्र‍ि का पूजन विधि विधान से किया जाता है.

मां दुर्गा का कालरात्र‍ि स्‍वरूप भयानक है. इनके शरीर का रंग घने अंधकार की तरह बिल्‍कुल काला है. ऐसी मान्‍यता है कि मां कालरात्र‍ि की उपासना करने वाले जातकों को शत्रुओं पर विजय का आर्शीवाद प्राप्‍त होता है. मां उनकी रक्षा काल से भी करती हैं.

पूजन विधि
मां कालरात्र‍ि की पूजा के लिए सबसे पहले दीपक और धूप जलाएं. फिर मां को लाल फूल चढ़ाएं. इसके बाद बेसन के लड्डू और केले का भोग लगाएं और मां को लाल चुनरी चढ़ाएं. कहते हैं मां कालरात्र‍ि को गुड़ से बने पकवान यदि चढ़ाया जाए तो मां जल्‍दी प्रसन्‍न होती हैं. यही नहीं मां को नारियल का लड्डू चढ़ाने और प्रसाद के रूप में बांटने से मां खुश होती हैं. इसलिए कालरात्र‍ि माता को गुड़ का कोई भी एक पकवान और नारियल का लड्डू जरूर चढ़ाएं. मां को पीला झंडा चढ़ाएं और उसे अपनी छत पर लगा दें.

यह भी पढ़ें: नवरात्रि 2017: एक साल में 2 बार क्यों मनाते हैं नवरात्रि?

खास उपाय
अगर आप जीवन में किसी वजह से परेशान हैं और वह परेशानी कम नहीं हो रही है तो आज किया गया यह उपाय आपको सभी कष्‍टों और शत्रुओं से छुटकारा दिला सकता है. जानिये क्‍या करना होगा…

धूप और दीप जलाकर मां को लाल चुनरी चढ़ाएं और फूल, फल व सभी प्रसाद चढ़ा दें. इसके बाद मां को लाल तिकोना झंडा अर्पित करें और उसे अपने छत पर फहरा दें. यदि आप दुश्‍मनों पर विजय हासिल करना चाहते हैं तो आज माता को चांदी से बना त्र‍िशूल चढ़ाएं और उसे अपने पास रख लें.

यह भी पढ़ें : जानें, कैसे और क्यों मनाई जाती है रामनवमी, क्या है महत्व

ऐसा करने के बाद आपको अपने शत्रुओं से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाएगा.