नई दिल्ली: प्रेग्नेंसी के दौरान बॉडी में कई बदलाव होते हैं, जिसके आधार पर आप यह समझ सकती हैं कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं. पीरिड्स मिस होना उसमें सबसे महत्वपूर्ण है. लेकिन कई बार बॉडी में हार्मोनल चेंज के कारण भी पीरियड्स मिस हो जाते हैं या लेट हो जाते हैं. फिर आप कैसे पता करेंगी कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं. यहां हम कुछ ऐसे ही लक्षण बता रहे हैं, जिसकी मदद से आप यह समझ पाएंगी कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं.

1. शरीर के अंगों में बदलाव: प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरॉन का उत्पादन बढ़ जाता है. इसलिए शरीर के कई अंगों के आकार में बदलाव होते हैं. जैसे कि स्तन और कुल्हों में सबसे पहले बदलाव दिखता है.

2. उल्टी आना: प्रेग्नेंसी के शुरुआती तीन महीने खूब उल्टी आती है. खासतौर से सुबह के समय. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर में हार्मोन्स बढ़ जाते हैं. इसके असर से बार-बार उल्टी आती है, कब्ज होता है और एसिडिटी होती है. एस्ट्रोजेन के कारण प्रेग्नेंट महिला को किसी खास महक से भी उल्टी आ सकती है.

3. थकान: प्रेग्नेंसी की शुरुआत में शरीर के भीतर कई हार्मोनल और शारीरिक बदलाव होते हैं. फीटस यानी भ्रूण का विकास हो सके इसलिए दिल की धड़कन तेज हो जाती है और रक्त का प्रवाह भी बढ़ जाता है. इसलिए प्रेग्नेंसी में महिलाओं को थकान महसूस होती है. इस समय प्रोजेस्टेरॉन का उत्पादन बढ़ जाता है. इसके कारण भी थकान होती है.

यह भी पढ़ें: प्रेग्नेंसी के दौरान इस एक्ट्रेस ने शूट किया था रेप सीन, बताया कैसा हुआ था हाल

4. पीरियड्स मिस होना: प्रेग्नेंसी का यह सबसे पहला लक्षण है. पेल्विक एग्जाम के जरिये आप यह जान सकती हैं कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं. बाजार में आजकल आसानी से मिल जाते हैं.

5. पेट में दर्द और कब्ज: प्रेग्नेंसी की शुरुआत में पेट में दर्द होता है. यह दर्द बिल्कुल पीरियड्स में होने वाले दर्द की तरह ही होता है. साथ ही हार्मोनल बदलाव के कारण कब्ज और एसिडिटी रहने लगती है.

6. शौच: जैसे-जैसे भ्रूण का आकार बढ़ता है, ब्लैडर पर दबाव बढ़ता है. इसके कारण ही प्रेग्नेंट महिला को बार-बार शौच आता है.

7. कभी खुशी कभी गम: प्रेग्नेंसी के दौरान शरीर कई बदलाव से गुजर रहा होता है. इसका भावनात्मक असर भी होता है. इसलिए प्रेग्नेंट महिलाएं कभी ज्यादा खुश हो जाती हैं, तो कभी बिना बात उदास हो जाती हैं.