लखनऊ: जिलाधिकारी ने शत-प्रतिशत लक्ष्य पूरा न करने वाले विभागों को दी कार्यवाही की चेतावनी.

शत-प्रतिशत लक्ष्य पूरा न करने वाले विभागों की समीक्षा बैठक करते हुए जिला अधिकारी कौशल राज शर्मा ने कड़े निर्देश जारी किए.

लक्ष्य पूरा न कर पाने वाले विभागों की समीक्षा

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्री प्रशांत शर्मा, कृषि अधिकारी ,चिकित्सा अधिकारी, पीडब्ल्यूडी विभाग के अधिकारी, जल निगम सहित अन्य विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया.
कृषि विभाग की समीक्षा के दौरान पता चला कि 14 लाख के बजट में से केवल 12 लाख ही खर्च किया गया है. मृदा स्वास्थ्य कार्ड के बजट का भी पूर्ण उपयोग नहीं किया जा सका. जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुए 31 मार्च तक इसका पूर्ण उपयोग करने के निर्देश दिए और अन्यथा की स्थिति में सख्त कार्रवाई के लिए तैयार रहने के लिए कहा. पीडब्ल्यूडी विभाग की रिपोर्ट के अनुसार संपूर्ण बजट का उपयोग हो गया है.

17 में से केवल 5 स्कूल भवनों का निर्माण

माध्यमिक शिक्षा विभाग की रिपोर्ट के अनुसार पैकफेड को निर्माण हेतु दिए गए 2 भवनों का निर्माण हो गया है, लेकिन जो 17 स्कूली भवन निर्माण के लिए आरईएस को दिए गए थे उसमें से केवल 5 स्कूलों का ही निर्माण हो सका. जिलाधिकारी ने इस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए टास्क फोर्स को भंग कर दिया और विभाग को निरीक्षण करने के आदेश दिए.

चिकित्सा विभाग बजट का पूर्ण उपयोग कर सकने में नाकाम

चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के समय जानकारी मिली कि 96 करोड़ के लक्ष्य का केवल 90 करोड़ उपयोग में लाया गया. केजीएमसी का 50 लाख रूपये के प्रयोग का उपयोगिता प्रमाण पत्र अभी तक नहीं आया है, जिसके लिए केजीएमसी को नोटिस भेजने के निर्देश दिए गए.

जल निगम में लक्ष्य से आधा कार्य

जल निगम की रिपोर्ट के अनुसार लतीफपुर में 131 करोड़ का बजट मिला जिसमें से केवल 40% का कार्य कराया गया. दसहरी में 54 % कार्य हो सका. बताया गया कि जमीनी विवाद होने के कारण कार्य कराना संभव नहीं हो पाया, जिसे शीघ्र समाप्त कराने के निर्देश दिए गए.

अधिकारियों को मिली कड़ी फटकार

जिलाधिकारी ने सभी विभागों के अधिकारियों को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि अगर किसी विभाग का बजट रुका हुआ मिला तो उसकी फाइनेंसियल पावर पर रोक लगा दी जाएगी. साथ ही कड़ी चेतावनी भी दी कि अगर 31 मार्च तक सभी लक्ष्य पूरे नहीं हुए तो विभाग कड़ी कार्यवाही का सामना करने के लिए तैयार रहें।