भोपाल: वरिष्ठ कांग्रेस नेता एवं छिंदवाडा से सांसद कमलनाथ को मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले के गोटेगांव स्थित झोतेश्वर ले जा रहा एक हेलीकॉप्टर शुक्रवार को रास्ता भटक गया. इससे स्थानीय प्रशासन में अफरा-तफरी मच गई. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार पूर्व केंद्रीय मंत्री कमलनाथ द्वारका पीठ के जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती से मिलने झोतेश्वर जा रहे थे, लेकिन उनका हेलीकॉप्टर भटककर नरसिंहपुर जिले में करेली के नजदीक ग्राम कोदसा के एक खेत में उतरा. झोतेश्वर और कोदसा गांव के बीच की दूरी लगभग 50 किलोमीटर है. कांग्रेस सांसद के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी भी थे.

करीब दो मिनट के बाद पायलट ने फिर उड़ान भरी और हेलीकॉप्टर से करेली का एक चक्कर लगाया. इसके बाद उसने हेलीकॉप्टर को गोटेगांव के झोतेश्वर में सुरक्षित उतार दिया. नरसिंहपुर प्रदेश की राजधानी भोपाल से करीब 250 किलोमीटर दूर है.

नरसिंहपुर जिले की एसपी मोनिका शुक्ला ने फोन पर बताया कि कमलनाथ को शायद झोतेश्वर में शुक्रवार सुबह करीब साढ़े 10 बजे हेलिकॉप्टर से पहुंचना था, लेकिन पायलट दिशा भटक गया, जिससे वह करीब 11 बजे झोतेश्वर पहुंचे.

कांग्रेस सांसद कमलनाथ के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी भी जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का आशीर्वाद लेने झोतेश्वर स्थित परमहंसी गंगा आश्रम में आए हैं. इस दौरान उन्होंने प्रसिद्ध त्रिपुर सुंदरी मंदिर में पूजा-पाठ भी की.

राजनीतिक हलकों में यह मुलाकात खास मानी जा रही है.कमलनाथ ने तीन दिन पहले ही कांग्रेस के सीनियर नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह की नर्मदा परिक्रमा यात्रा के समापन के अवसर पर भी शंकराचार्य स्वरूपानंद से मुलाकात की थी. (इनपुट- एजेंसी)