भोपाल: मध्यप्रदेश के गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने मंगलवार को कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला. उन्होंने कहा कि 2 अप्रैल को दलित आंदोलन के दौरान जो हिंसा हुई थी. उसमें कांग्रेस का हाथ था. कांग्रेस ने पर्दे के पीछे से अपना मकसद साधा. भारत बंद के दौरान हुई हिंसा में देशभर में सबसे ज्यादा 8 लोगों की मौत मध्यप्रदेश में हुई थी. ग्वालियर के मेहगांव में 22 साल के प्रदीप और 15 साल के आकाश जाटव की गोली लगने से मौत हुई थी. एफआईआर के मुताबिक सवर्ण जाति के सोनू, मोनू और बबलू राठौर ने छत से गोली चलाई थी.

गृहमंत्री ने संवाददाताओं से कहा, ‘आज के बंद को लेकर पुलिस पूरी तरह सजग और सतर्क है. हालात पर मेरी और मुख्यमंत्री की नजर बनी हुई है, अभी हालात सामान्य हैं. मध्य प्रदेश शांति वाला राज्य है, जहां हिंसा का कोई स्थान नहीं है.’

भूपेंद्र सिंह ने दो अप्रैल के आंदोलन के दौरान हुई हिंसा और उसकी चपेट में आकर के सवाल पर कहा कि कुछ लोगों ने अशांति का माहौल बनाने का प्रयास किया था. ग्वालियर-चंबल के अलावा प्रदेश में कहीं भी कोई हिंसा नहीं हुई थी, इस हिंसा के पीछे कांग्रेस का हाथ था. (इनपुट-एजेंसी)