भोपाल। मध्य प्रदेश में आजकल कैश की किल्लत से जनता परेशान हो रही है. इस तरह की किल्लत नवंबर 2016 में नोटबंदी की घोषणा के बाद देखी गई थी. लोगों के अपने खाते में पैसा होने के बाद भी वे एटीएम से इस पैसे को नहीं निकाल पा रहे हैं, क्योंकि प्रदेश के अधिकांश एटीएम में आज नो कैश के पोस्टर लगे हुए हैं. हालांकि मंगलवार को सरकार की तरफ से आश्वासन दिया गया कि कैश की किल्लत नहीं होने दी जाएगी और 500 के नोट दो गुना रफ्तार से छापे जा रहे हैं.

एटीएम में पैसा नहीं, लोग परेशान

भोपाल के साथ ही इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर सहित प्रदेश के ज्यादातर जिलों के लोग एटीएम में पैसा न होने के कारण परेशान हैं. लोगों का कहना है, हमें एक बार फिर नोटबंदी वाला समय याद आ गया है. मध्यप्रदेश में कैश की किल्लत और एटीएम में नकदी की कमी के बीच मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कल प्रदेश के शाजापुर में किसान महासम्मेलन को सम्बोधित करते हुए कहा था कि कुछ लोगों द्वारा 2,000 रुपये के नोट दबाकर नकदी की कमी पैदा करने का षड्यंत्र चल रहा है.

15 दिनों में निकला इतना कैश कि खाली हो गए ATM, सरकार ने उठाया ये कदम

15 दिनों में निकला इतना कैश कि खाली हो गए ATM, सरकार ने उठाया ये कदम

मुख्यमंत्री ने कहा, जब (नवंबर 2016 में) नोटबंदी हुई थी तब 15 लाख करोड़ रुपये के नोट बाजार में थे और आज 16.50 लाख करोड़ के नोट छापकर बाजार में भेजे गए हैं. लेकिन दो-दो हजार के नोट कहां जा रहे हैं, कौन दबाकर रख रहा है, कौन नकदी की कमी पैदा कर रहा है. यह षडयंत्र है.

इंदौर में भी कैश की किल्लत

इसी बीच, मध्यप्रदेश की वाणिज्यिक राजधानी इंदौर से मिली रिपोर्ट के अनुसार वहां भी नकदी का संकट गहराता जा रहा है. इससे आम लोगों के साथ खासकर खुदरा कारोबारियों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. भोपाल के लोगों का कहना है कि हम एटीएम से नकदी नहीं निकाल पा रहे हैं, क्योंकि शहर के कई हिस्सों में एटीएम में नकदी नहीं है. हम कल से कई एटीएम में गए, लेकिन यह स्थिति हर जगह है. जिस एटीएम में पैसे हैं, उसमें लंबी-लंबी कतारें लगी हुई हैं. पिछले एक महीने से अधिक समय से यहां एटीएम में पैसे निकालने में समस्या आ रही है, जो अब और बढ़ गई है.

जबलपुर और ग्वालियर से मिली रिपोर्ट के अनुसार इन दोनों जिलों में भी अधिकांश एटीएम में कैश नहीं है. जिस एटीएम में पैसा है, वहां लोगों की लंबी-लंबी कतारें लगी हुई हैं. यही हाल प्रदेश के अन्य 47 जिलों में भी चल रहा है.

सरकार ने दिया भरोसा

मंगलवार को आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव एस सी गर्ग ने कहा कि सामान्य से ज्यादा पैसों की निकासी के चलते ऐसे हालात पैदा हुए हैं. आर्थिक मामलों के विभाग के सचिव एस सी गर्ग ने आज भरोसा दिलाया कि कैश की कमी नहीं आने दी जाएगीय हम हर दिन 500 के नोट के 500 करोड़ रुपये छाप रहे हैं. हमने प्रोडक्शन पांच गुना बढ़ा दिया है. अगले दो दिनों में हम 500 के नोट के 2500 करोड़ रुपये बाजार में उतार देंगे. पूरे महीने में 70 से 75 हजार करोड़ रुपये उपलब्ध होंगे.

(भाषा इनपुट)