इंदौर. केंद्रीय नारकोटिक्स ब्यूरो (सीबीएन) ने मादक पदार्थ मेफेड्रोन की 5.2 किलोग्राम की अवैध खेप के साथ यहां एक तस्कर को धर दबोचा है. यह मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी में इस पदार्थ की इतनी बड़ी मात्रा में बरामदगी का पहला मामला है. सीबीएन की इंदौर इकाई की अधीक्षक सबीहा खान ने आज संवाददाताओं को बताया कि मुखबिर की सूचना के बाद शहर के मधुमिलन चौराहे पर पांच दिसंबर को पकड़े गये तस्कर की पहचान आजाद खान (35) के रूप में हुई है.

इंदौर में आठ वर्षीय बालिका से दुष्कर्म, हिरासत में पड़ोसी युवक

इंदौर में आठ वर्षीय बालिका से दुष्कर्म, हिरासत में पड़ोसी युवक

उसके कब्जे से बरामद अवैध खेप की अंतरराष्ट्रीय बाजार में 50 लाख रुपये से ज्यादा कीमत आंकी जा रही है. इसमें एक किलोग्राम मेफेड्रोन क्रिस्टल की शक्ल में है, जबकि शेष 4.2 किलोग्राम मादक पदार्थ पाउडर के रूप में है. सीबीएन अधीक्षक ने बताया कि खान प्रदेश के मंदसौर जिले का रहने वाला है. वह इंदौर में किसी व्यक्ति को मेफेड्रोन की खेप सौंपने आया था. एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर विस्तृत जांच की जा रही है.

उनके मुताबिक नशे के लिये मेफेड्रोन के दुरुपयोग के मामलों में इजाफे के बाद इसे एनडीपीएस एक्ट के दायरे में आने वाले मादक पदार्थों की अनुसूची में वर्ष 2015 में शामिल किया गया था. मेफेड्रोन, नशीले पदार्थों के काले बाजार में म्याऊं-म्याऊं और एमडी के नाम से मशहूर है. बड़ी संख्या में युवा इसकी लत के शिकार हैं. स्थानीय स्तर पर इसकी केवल एक ग्राम मात्रा की कीमत कम से कम 6,000 रुपये वसूली जाती है.