दमोह। दमोह के नोहटा थाना क्षेत्र में शुक्रवार को दर्दनाक घटना सामने आई. एक गर्भवती मां ने अपनी तीन मासूम बेटियों को गोद में बिठाकर केरोसीन डालकर आग लगा ली. रिपोर्ट्स के मुताबिक दो बेटियों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि तीसरी की जिला अस्पताल में मौत हो गई. गंभीर रूप से झुलसी मां की भी मौत हो गई. इस करुण घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई है. पुलिस के मुताबिक महिला पेट के असहनीय दर्द से परेशान थी इसलिए इतना बड़ा कदम उठाया. हालाकि पुलिस अलग-अलग पहलुओं से आत्महत्या के कारणों की छान-बीन कर रही है.

शिक्षक दिवस में अनुपस्थित रहने पर टीचर ने छात्रों को मुर्गा बनाकर दौड़ा दिया, वीडियो वायरल

शिक्षक दिवस में अनुपस्थित रहने पर टीचर ने छात्रों को मुर्गा बनाकर दौड़ा दिया, वीडियो वायरल

यह भी माना जा रहा है कि 30 वर्षीय ने खुद को आग लगाकर आत्महत्या करने की कोशिश की हो और उसे बचाने के प्रयास में तीनों बच्चियां झुलस गई हों. मृतक मासूमों में दो साल की तुलसा, पांच साल की मुस्कान और सात साल की मानसी शामिल हैै. घटना से द्रवित गांव के कई घरों में चूल्हे तक नहीं जले.

एसपी अरविंद दुबे के मुताबिक रानी ने अपने बयान में बताया कि उसने पेट में असहनीय दर्द के कारण खुद को आग लगाई. हालाकि रानी के परिजनों पर भी शक की सुई लटक रही है. घटना स्थल पर महिला के पति नेपाल सिंह ने रोते हुए कहा कि गर्भ चौथी बेटी होने के संदेह पर रानी को ताने सुनने को मिल रहे थे, इससे वह परेशान हो गई थी.