मुंबई: प्रदेश सचिवालय में चूहों को मारने पर सवाल उठाने के बाद महाराष्ट्र कांग्रेस इकाई ने बुधवार को मुख्यमंत्री कार्यालय( सीएमओ) पर चाय और स्नैक्स के बिल बढ़ाने का आरोप लगाया. सूचना का अधिकार( आरटीआई) कानून के जरिये प्राप्त दस्तावेजों का हवाला देते हुए मुंबई क्षेत्रीय कांग्रेस समिति के अध्यक्ष संजय निरूपम ने कहा कि मुख्यमंत्री कार्यालय में चाय और स्नैक्स के बिलों में 577 प्रतिशत की बढोत्तरी की गई है.

उन्होंने सवाल किया, ‘‘मुख्यमंत्री कौन सी चाय पी रहे हैं?’’ कांग्रेसी नेता ने कहा, ‘‘आरटीआई से प्राप्त जानकारी में खुलासा हुआ कि मुख्यमंत्री कार्यालय में चाय और स्नैक्स पर खर्च 2015-16 में करीब 58 लाख रुपए से बढकर 2017-18 में 3.34 करोड़ रुपए हो गया. यानी इसमें नाटकीय रूप से 577 प्रतिशत की बढोत्तरी हुई.’’ निरूपम के इन ताजा आरोपों से पहले राज्य सचिवालय ‘मंत्रालय’ में चूहों को मारने के अनुबंध में बड़े स्तर पर अनियमितताओं के आरोप लगे थे.

यह भी पढ़ें: सात दिन में ही खत्म हो गए महाराष्ट्र सचिवालय से लाखों चूहे तो अब हुई ठेके की जांच की मांग

निरूपम ने कहा, ‘‘देवेंद्र फडणवीस कौन सी चाय पी रहे हैं? हमने ग्रीन टी, येलो टी और ऐसी अन्य टी सुनी हैं. लेकिन ऐसा लगता है कि फडणवीस किसी तरह से गोल्डन टी ( सोने की चाय) पी रहे हैं. जब महाराष्ट्र में किसान रोजाना मर रहे हैं तो मैं चाय पर इस तरह के भारी खर्च की कल्पना नहीं कर सकता.’’

बता दें कि तीन दिन पहले मंत्रालय में चूहे मारने के लिए दिए गए टेंडर पर बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री एकनाथ खडसे ने सवाल उठाया था. खडसे ने पूछा कहा था कि 3,19,400 चूहों को मारने के लिए जिस कंपनी को ठेका दिया गया था, उसने महज सात दिनों में यह काम कैसे पूरा कर लिया. कंपनी को इसके लिए छह महीने का समय दिया गया था.