मुंबई: बंबई उच्च न्यायालय ने बुधवार को कहा कि सिंगल मदर के बच्‍चों के लिए जन्‍म प्रमाण पत्र पर पिता का नाम अनिवार्य नहीं है. टेस्‍ट ट्यूब प्रक्रिया से पैदा हुई एक बच्‍ची के मां द्वारा दायर याचिका की सुनवाई करते हुए अदालत ने यह फैसला दिया है. अदालत ने बृहन्न्मुंबई महानगर पालिका को निर्देश दिया कि वह बच्ची को एक नया जन्म प्रमाण पत्र जारी करे जिसमें उसके जैविक पिता के नाम का उल्लेख नहीं हो. न्यायमूर्ति एएस ओका और न्यायमूर्ति आरआई चागला ने नगर निकाय को निर्देश दिया कि वह पहले ही जारी किए जा चुके उस जन्म प्रमाण पत्र को वापस मंगा ले जिस पर लड़की के पिता का नाम है और दूसरा प्रमाण पत्र जारी करे जिस पर पिता के नाम का स्थान रिक्त हो.

पीठ पालघर जिले के नालासोपारा की एक महिला की याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसने एक डोनर से प्राप्त स्पर्म (वीर्य) की मदद से टेस्ट ट्यूब प्रक्रिया के जरिए अगस्त 2016 में एक बच्ची को जन्म दिया था. याचिकाकर्ता ने कहा कि वह स्पर्म डोनर के नाम का खुलासा नहीं करना चाहती. उन्होंने उच्च न्यायालय से अनुरोध किया कि वह बीएमसी के संबद्ध वार्ड कार्यालय को बच्चे का ऐसा जन्म प्रमाण पत्र जारी करने का निर्देश दे जिस पर पिता का नाम नहीं हो.

उनकी याचिका में उच्चतम न्यायालय के वर्ष 2015 के एक फैसले का जिक्र भी किया गया जिसमें यह अनिवार्य बनाया गया था कि यदि कोई अकेली या अविवाहित महिला अपने बच्चे के जन्म प्रमाण पत्र के लिए आवेदन देती है और हलफनामा दायर कर पिता का नाम उजागर नहीं करने का अनुरोध करती है तो ऐसा प्रमाण पत्र जारी किया जाना चाहिए, और बच्चे के जैविक पिता के नाम पर जोर नहीं दिया जाना चाहिए.

पिछले हफ्ते बीएमसी ने बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र और मूल रिकॉर्ड उच्च न्यायालय के समक्ष पेश किया था. रिकॉर्ड के मुताबिक बच्चे के जन्म के वक्त याचिकाकर्ता ने अपना पूरा नाम बताया था और दावा किया था कि उसका विवाह एक व्यवसायी से हुआ है. नगर निकाय ने अदालत को बताया कि महिला ने बच्चे के जैविक पिता के नाम का अस्पताल के फॉर्म में जिक्र किया था, इसी के आधार पर जन्म का रिकॉर्ड तैयार किया गया.