मुंबई. यौनकर्मी और घरेलू सहायिका से वैश्विक स्तर पर पहचान बनाने वाली लेखिका से लेकर 17 भाषाओं में लिखने वाली 50 से अधिक लेखिकाएं अगले सप्ताह मुंबई में होने वाले गेटवे लिटरेचर फेस्टिवल के चौथे सेशन में शिरकत करेंगी. आयोजकों ने आज बताया कि इस साल के गेटवे साहित्य महोत्सव में समकालीन साहित्य में महिलाओं की रचनाशीलता को देखने का मौका मिलेगा. इस महोत्सव को क्षेत्रीय भाषा के लेखन का सबसे बड़ा मंच माना जाता है.

उन्होंने बताया कि तीन दिवसीय साहित्य महोत्सव की थीम ‘‘भारतीय साहित्य में महिला शक्ति’’ होगी. इस कार्यक्रम का आयोजन यहां 22 फरवरी से नेशनल सेंटर फॉर द परफॉर्मिंग आर्ट्स (एनसीपीएस) में किया जाएगा. वक्ताओं में साहित्य अकादमी पुरस्कार जीतने वाले लोग और ज्ञानपीठ विजेता उड़िया लेखिका प्रतिभा राय का नाम भी शामिल है.

नलिनी जमीला से लेकर बेबी हालदार तक होंगी शामिल
गेटवे लिटरेचर फेस्टिवल में लेखिका बनने से पहले केरल में लंबे समय तक यौनकर्मी के रूप में काम करने वाली नलिनी जमीला और एक घरेलू सहायिका के रूप में काम करने वाली बेबी हालदर भी कार्यक्रम में शामिल होंगी. इसके अलावा, कश्मीर में डीआईजी नीतू भट्टाचार्य, मेघालय के अखबार की संपादक पेट्रीशिया मुखीम, अभिनेत्री नीना कुलकर्णी और जानी-मानी दलित-महिलावादी कवयित्री प्रज्ञा दया पवार भी कार्यक्रम में शिरकत करेंगी.

जसिंता केरकेट्टा, नंदिता दास और शोभा डे भी आएंगी
लिटरेचर फेस्टिवल के आयोजकों ने बताया कि कार्यकम में शामिल होने वालों में झारखंड की उभरती हुई कवयित्री जसिन्ता केरकेट्टा का नाम भी शामिल है. इसके अलावा बंगाली फिल्म निर्मात्री अपर्णा सेन, अभिनेत्री-निर्देशक नंदिता दास, लेखिका शोभा डे, अंजू मखीजा, देविका जे, इंदू मेनन, कनका हा, कार्तिका वीके, मलिका अमर शेख, निरूपमा दत्ता, चल्लापल्ली स्वरूप रानी, बीना पॉल और तेमसुला आओ भी कार्यक्रम में हिस्सा लेंगी.