बीजिंग: चीन इस साल चांग ई-4 लूनार यान के जरिए चांद पर आलू, फूल के पौधे के बीज और रेशम कीट के अंडाणुओं को भेजने की योजना बना रहा है. इसके पीछे चीन का उद्देश्य चांद पर जैविक अनुसंधान करना है. सरकारी समाचार एजेंसी ‘शिन्हुआ’ की खबर के मुताबिक इस अनुसंधान के तहत आलू और अरबीडोफिसिस के बीजों और संभवत रेशम के कीटों के अंडाणुओं को भेजा जाएगा. यह चंद्रमा पर अपनी तरह का पहला जैविक अनुसंधान होगा.

ये भी पढ़ें: नई रिसर्च का दावा, बेरी में मौजूद रंजक से कैंसर के इलाज में मिल सकती है मदद

‘लूनार मिनी बॉयोस्फेयर’की योजना 28 चीनी विश्वविद्यालयों ने तैयार की है. इसकी अगुवाई दक्षिण पश्चिमी चीन का चांगकिंग विश्वविद्यालय कर रहा है. जिस बेलनाकार टीन में यह सामग्री भेजी जाएगी वह 18 सेंटीमीटर लंबा है और उसका व्यास 16 सेंटीमीटर है. यह टीन विशेष एल्यूमिनियम एलॉय से बना है.

ये भी पढ़ें: बच्चों के लिए कैंसर की नई दवा सुरक्षित और प्रभावी: अध्ययन

खबरों के आधार पर यह भी कहा जा रहा है कि इसके परिणामों के आधार पर यह भी तय किया जाएगा कि मनुष्यों के लिए चांद पर रहने की कितनी संभावना है. हॉलीवुड फिल्म द मार्टियन में भी इस तरह का कॉन्सेप्ट दिखाया जा चुका है. इस फिल्म में दिखाया गया था कि किस प्रकार एक्सट्रीम कंडीशन में एस्ट्रोनॉट मंगल ग्रह पर सब्जियां उगाता है.

-इनपुट भाषा