जकार्ता. अपनी दांत दिखाने वाली सेल्फी लेने के बाद सुर्खियों में आये और अमेरिका के कॉपीराइट मामले में ऐतिहासिक घटना को जन्म देने वाले इंडोनेशिया के बंदर को पशु अधिकारों के लिये काम करने वाले समूह ने पर्सन ऑफ द ईयर के तौर पर नामित किया है. पशु अधिकारों के लिये काम करने वाली संस्था पीपुल फॉर द एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल्स (पेटा) ने ही इस बंदर की सेल्फी का मामला उठाया था.

पेटा ने नारूतो नामक इस बंदर को सम्मानित करते हुए यह कहा कि काले रंग का यह बंदर एक जीव है ना कि कोई वस्तु. वर्ष 2011 में सुलावेसी द्वीप पर नारूतो ने ब्रिटिश नेचर फोटोग्राफर डेविड स्लेटर के लगाये एक कैमरे की लेंस की ओर घूरते हुए कैमरे का बटन दबा दिया था.

चाइनीज दंपति के बैग से मिले 200 जिंदा कॉकरोच, एयरपोर्ट पर हड़कंप

चाइनीज दंपति के बैग से मिले 200 जिंदा कॉकरोच, एयरपोर्ट पर हड़कंप

डेविड प्रकृति एवं इससे जुड़ी वस्तुओं की तस्वीरें लेते हैं. यह तस्वीर तेजी से वायरल होने लगी थी और पेटा ने इसके खिलाफ मुकदमा दायर कर दावा किया था कि छह साल के नारूतो को अपनी तस्वीर का रचनाकार एवं मालिक घोषित करना चाहिए. पेटा के संस्थापक इनग्रिड नेवकिर्क ने एक बयान में कहा कि नारूतो की ऐतिहासिक सेल्फी ने उस विचार को चुनौती दी कि व्यक्ति कौन है और कोन नहीं है.

ऐसा पहली बार है जब इस पशु को किसी की संपत्ति घोषित करने के बजाय उसे संपत्ति का मालिक घोषित करने की मांग करते हुए कोई मुकदमा दायर किया गया है. बहरहाल इस मुकदमे से अंतरराष्ट्रीय कानूनी विशेषज्ञों के बीच पशुओं के लिये उनके व्यक्तित्व की पहचान और वे अपनी संपत्ति के मालिक हो सकते हैं या नहीं, इसे लेकर एक बहस छिड़ गयी.

सितंबर में अदालत के फैसले के साथ मामले में इस बात पर सहमति बनी कि डेविड भविष्य में बंदर की सेल्फी के इस्तेमाल या उसकी बिक्री से होने वाली कमाई का 25 प्रतिशत हिस्सा इंडोनेशिया में इन बंदरों की रक्षा में मदद के लिये देंगे.