भला पानी पुरी खाना किसे पसंद नहीं, मगर कई बार हाइजिन के चलते लोग इसका सेवन ठेले या नुक्कड़ पर किसी दुकान से करने में परहेज ही करते है. लोगों के इसी समस्या का समाधान खोजा है मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के छात्रों ने. वहां के स्टूडेंट्स ने पूरी तरह से ऑटोमैटिक पानी पुरी वेंडिंग मशीन बनाई है. मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के 4 छात्रों ने कड़ी मेहनत के बाद इसे बनाया है.

बताया जाता है कि स्थानीय चाट की दूकान पर मैन-पावर की कमी के चलते चारों छात्र साहस गम्बाली, नेहा श्रीवास्तव, सुनंदा सोमु, करिश्मा अग्रवाल को ऑटोमैटिक पानी पुरी वेंडिंग मशीन बनाने का आइडिया आया. इस मशीन को बनाने के लिए उन्हें 6 महीने लगे.

Photo: Facebook
Photo: Facebook

इस मशीन के सामने की साइड में एक कण्ट्रोल पैनल है. साथ ही इसमें एक साइड पैनल भी है जहां कोई भी अपने प्रोडक्ट्स की ऐड कर सकता है. मशीन बनाने वाले छात्रों के अनुसार यह मॉल या शॉपिंग सेंटर के लिए परफेक्ट है. इसमें व्यक्ति को उसके स्वाद अनुसार पानी पुरी मिलेगी, यानी किसे अगर तीखी चाहिए तो उसे तीखी मिलेगी, जिसे स्वीट चाहिए उसे स्वीट मिलेगी.

इस मशीन को बनाने वाली टीम के एक सदस्य ने बताया की वे लोग भविष्व में इसमें और ऑप्शन लाने पर विचार कर रहे है. फिलहाल इसमें फ्लेवर का ही विकल्प मौजूद है. उन्होंने यह भी बताया कि इस मशीन में एक और विशेषता मल्टीप्लेयर मोड है जहां दोस्त पानी पुरी खाने के दौरान एक दूसरे को चुनौती दे सकती हैं. इस मशीन में केवल सामग्री रिफिल करने के लिए व्यक्ति चाहिए, इसके अलावा ये पूरी तरह से ऑटोमैटिक.

इस मशीन के आने से उन लोगों की समस्या हल हो गई है जो हाइजिन की वजह से बाहर पानी पुरी नहीं खाते.