नई दिल्ली| सोशल मीडिया पर एक खबर तेजी से वायरल हो रही है. खबर में बताया जा रहा है कि 12 अगस्त को रात नहीं होगी. मतलब कि 12 अगस्त को 24 घंटे उजाला रहेगा यानि उस दिन रात में भी दिन जैसा उजाला रहेगा और अंधेरा ही नहीं होगा. साथ ही ये भी कहा जा रहा है कि 96 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार होने वाला है.

दरअसल 12 अगस्त यानी आज रात में एक बजे बाद उल्काओं की बारिश होने वाली है, जिस वजह में आसमान में घना अंधेरा न होकर हल्का उजाला रहेगा. वैसे ये खगोलीय घटना जुलाई-अगस्त माह में होती है. मी‌टियर शॉवर यानि उल्का बारिश एक साल में तीन बार होती है.

इस दौरान हर एक सेकेंड में टूटता उल्का हमें तारें में रूप में दिखाई देगा. आज करीब 100 से 200 उल्काएं पृथ्वी के वातावरण से टकराएंगी, लेकिन चंद्रमा की रोशनी ‌अधिक होने के कारण 50 से 60 प्रति घंटा ही देखी जा सकती है.

5 का सिक्का बनाएगा मालामाल!
वायरल हो रही खबरों के अनुसार खगोलीय घटना का संबंध नक्षत्रों से भी होता है. 5 रूपए के एक सिक्के के ऊपर सिंदूर से अपने नाम का पहला अक्षर लिख दें. रात के समय उस सिक्के को अपनी छत पर लेकर जाएं और पानी की टंकी के ऊपर रख दें. अगर पानी की टंकी नहीं है तो फिर छत पर ही रहने दें.

सिक्का रखते हुए ध्‍यान रखें कि जिस तरफ आपके नाम का पहला अक्षर लिखा है, वो हिस्सा आसमान की तरफ होना चाहिए. रात के उस उजाले को सिक्के पर पड़े रहने दें. यही उजाला आपकी किस्मत को भी चमकाएगा. अगले दिन उस सिक्के को लाल कपड़े में लपेटकर अपने पर्स में रख लें. यही सिक्का आपकी जेब हमेशा भरता रहेगा.

फैलाया जा रहा है भ्रम
उल्कापात भारत से काफी दूरी पर होने की वजह से नजर नहीं आएगा. इसलिए भारत में रात में भी दिन जैसे उजाले की बात झूठी है. मी‌टियर शॉवर लगभग हर साल होता है लेकिन कुछ ही बार अच्छे से दिखता है इसलिए 96 साल में पहली बार हो रहा है ये बात बिल्कुल गलत है. मी‌टियर शॉवर कई घंटो तक होता है लेकिन सिर्फ 1-2 घंटे जब सबसे चमकीले कण गिरते हैं तभी साफ दिखता है और रोशनी भी पैदा करता है इसलिए 24 घंटे दिन की तरह उजाला होने की बात झूठी है.

नासा ने सिर्फ ये बताया है कि 12 अगस्त को मी‌टियर शॉवर होगा और इतने बजे होगा. नासा ने कहीं भी इस बात का जिक्र नहीं किया है कि ये चमत्कार दुनिया में पहली बार होगा क्योंकि हर साल लगभग अगस्त में मेट्योर शॉवर होता है.