ढाका. अंडर-19 एशिया कप में पूर्व चैंपियन भारत को तीन दिन में दूसरी हार मिली जिसके बाद उसके टूर्नामेंट से बाहर होने का रास्ता साफ हो गया. रविवार को नेपाल से मिली हार के बाद टीम इंडिया को बुधवार को बांग्लादेश के हाथों शिकस्त झेलनी पड़ी है. बांग्लादेश ने टीम के 188 रनों के टारगेट को वक्त रहते हासिल कर लिया. 2008 में 19 साल की उम्र में विराट ने टीम इंडिया को दूसरी बार अंडर-19 वर्ल्ड कप का खिताब दिलाया था. कोहली, दूसरे भारतीय कप्तान हैं जिनकी कप्तानी में भारत ने 2008 में अंडर-19 वर्ल्ड कप जीता था. उस समय रविंद्र जडेजा टीम में उपकप्तान थे और सिडनी में भारतीय जीत के हीरो रहे मनीष पांडे भी टीम के सदस्य थे. कोहली ने अंडर-19 वर्ल्ड कप के 6 मैचों में 235 रन बनाए थे, जबकि जडेजा ने इतने ही मैचों में 10 विकेट झटके थे. 

नेपाल के बाद बांग्लादेश से भी हारी टीम इंडिया, टूर्नामेंट से बाहर

नेपाल के बाद बांग्लादेश से भी हारी टीम इंडिया, टूर्नामेंट से बाहर

एशिया कप की हार
ग्रुप में बांग्लादेश और नेपाल से भारत की हार के बाद सेमीफाइनल में पाकिस्तान और अफगानिस्तान की एंट्री हो गई है. बांग्लादेश के खिलाफ रॉयल सिलेंगर क्लब में खेले गए मैच में बारिश की स्थिति के बीच मैच को 32 ओवर का कर दिया गया. बांग्लादेश ने फील्डिंग चुनी थी. वह रेग्युलर बोलर्स के साथ मैच में उतरी थी. बांग्लादेश ने टीम इंडिया के 4 विकेट तभी चटका दिए थे जब वह 85 रन पर थी.

अपने प्रमुख बल्लेबाजों पृथ्वी शॉ और शुबमन गिल के बिना, सिंगल हाफ सेंचुरी भी मैनेज नहीं कर सकी. नंबर 7 पर खेलने वाले सलमान ने 39 रन बनाए जो टीम की तरफ से किसी खिलाड़ी द्वारा बनाए गए सर्वाधिक रन थे. हार्दिक देसाई (21) और अनुज रावत (34) ने ही टीम को बेकार शुरुआत दी. हालांकि आखिरी 4 विकेट ने 71 रन बनाए और टीम को जीत सकने वाले स्कोर तक पहुंचा दिया.

बांग्लादेश की ओपनिंग जोड़ी पिनाक घोष और मोहम्मद नईम शेख ने 82 रन की मजबूत साझेदारी की और टीम इंडिया के मंसूबों को ध्वस्त कर दिया. घोष ने इसके बाद मोहम्मद तवहिद के साथ साझेदारी कर टीम को जीत की दहलीज तक पहुंचाया. घोष ने 81 रन की तूफानी पारी खेली. टीम ने 2 विकेट के नुकसान पर ही इस जीत को हासिल किया.

टीम इंडिया के कोच राहुल द्रविड़ इस हार से थोड़े हताश जरूर हैं. द्रविड़ ने टीम में नए चेहरों को तरजीह दी थी जिससे अगले साल की शुरुआत में न्यूजीलैंड में होने वाले अंडर-19 विश्व कप के लिए खिलाड़ियों की पहचान की जा सके. द्रविड़ ने इस बात पर जोर दिया था कि इस वक्त परिणाम पर उनका ध्यान नहीं है. उन्होंने कहा था कि यह खिलाड़ियों की स्किल और माइंडसेट की पहचान करने और उसे विकसित करना अधिक है.

इस बीच, ग्रुप बी से अफगानिस्तान और पाकिस्तान ने सेमीफाइनल में एंट्री ली है. अफगानिस्तान ने यूएई को 134 रन से हराया और सेमीफाइनल में जगह बनाई. इस जीत से अफगानिस्तान ने अपना रन रेट पाकिस्तान से बेहतर भी किया और ग्रुप बी के टॉप पायदान पर पहुंच गई.

वहीं, नेपाल ने मलेशिया को 8 विकेट से हराया और सेमीफाइनल में प्रवेश किया. यहां उसकी भिड़ंत बांग्लादेश के साथ होगी. बारिश की वजह से मैच को 24 ओवरों तक सीमित कर दिया गया था. मलेशिया के दिए 45 रन के टारगेट को नेपाल ने 5.2 ओवरों में ही हासिल कर लिया.

नेपाल से हारा था भारत
नेपाल ने रविवार को क्वालालंपुर में भारत की टीम को बड़ा उलटफेट करते हुए मात दे दी. नेपाल ने टीम इंडिया को 19 रन से हराकर सबको चौंका दिया. नेपाल ने पहले बल्लेबाजी करते हुए कप्तान दीपेंद्र के 88 रन की बदौलत निर्धारित 50 ओवर में आठ विकेट पर 185 रन बनाए, नेपाल की तरफ से कप्तान दीपेंद्र के अलावा जितेंद्र सिंह ठाकुरी ने 33 रनों का योगदान दिया.

इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया 48.1 ओवर में 166 रन पर ढेर हो गई. टीम इंडिया को कोई भी बल्लेबाज भारत को जीत नहीं दिला सका. नेपाल के कप्तान दीपेंद्र ने गेंदबाजी में भी कमाल करते हुए 39 रन देकर चार विकेट लिए. दीपेंद्र के इस मैन विनिंग प्रदर्शन की बदौलत नेपाल ने रविवार को क्रिकेट में नया कारनामा कर दिखाया.

भारतीय टीम के ओपनर बल्लेबाज और कप्तान हिमांशु राणा और नवजोत कालरा ने टीम को शुरुआत दी. इन दोनों के बीच पहले विकेट के लिए 65 रनों की साझेदारी हुई.कप्तान हिमांशु 46 रन बनाकर आउट हो गए जबकि नवजोत ने 33 रन बनाए. इन दोनों बल्लेबाजों के आउट होने के बाद पूरी भारतीय टीम लड़खड़ा गई और 166 रन ही बना पाई.