नई दिल्ली: आईपीएल 2018 का पहला मुकाबला मुंबई इंडियन्स और चेन्नई सुपरकिंग्स के बीच खेला जायेगा. इस सीजन से चेन्नई लम्बे समय बाद आईपीएल में वापसी कर रही है. यह टीम 2015 के बाद प्रतिबंधित हो गई थी. चेन्नई का आईपीएल रिकॉर्ड प्रभावी रहा है. उसने धोनी की कप्तानी में आईपीएल 2010 और 2011 में लगातार खिताबी मुकाबला जीता था. इस बार फिर से टीम धोनी की कप्तानी में मैदान में उतरेगी.

चेन्नई की टीम पर नजर डालें तो इसमें अधिकतर खिलाड़ी अनुभवी हैं. जहां बल्लेबाजी के लिए सुरेश रैना, फाफ डु प्लेसिस और मुरली विजय हैं. वहीं गेंदबाजी के लिए हरभजन सिंह, इमरान ताहिर और कर्ण शर्मा हैं. टीम के पास रविन्द्र जडेजा और शेन वॉट्सन जैसे दिग्गज ऑलराउंडर खिलाड़ी भी हैं. इस हिसाब से अगर टीम का आंकल करें तो यह काफी संतुलित है. लेकिन खिलाड़ियों का उम्रदराज होना भी चिंता का सबब बन सकता है.

उसेन बोल्ट के फीजियो से ट्रेनिंग लेकर आया कोलकाता का ये खिलाड़ी, IPL में दिखेगा ऑलराउंडर प्रदर्शन

बेहतरीन बैटिंग लाइनअप –

चेन्नई ने आईपीएल ऑक्शन 2018 में कई अनुभवी खिलाड़ियों को चुना है. इसमें कई खिलाड़ी ऐसे हैं, जिनकी उम्र 30 साल या इससे ज्यादा है. टीम ने सुरेश रैना को रीटेन किया है. वो आईपीएल में अब तक सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं. इस लीग में उनका रिकॉर्ड प्रभावी रहा है. रैना के अलावा फाफ डु प्लेसिस और मुरली विजय को भी खरीदा गया. ये दोनों बल्लेबाज भी अनुभवी हैं और आईपीएल में कई बार बेहतरीन प्रदर्शन कर चुके हैं. हालांकि मुरली ने पिछले काफी समय से टी-20 क्रिकेट नहीं खेला है. इनके अलावा केदार जाधव और ध्रुव शोरे भी टीम के अहम हिस्सा होंगे. कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी की बात करें तो बतौर फिनिशर वो अब तक अच्छा प्रदर्शन करते रहे हैं. इस सीजन में भी उनका प्रभावी प्रदर्शन देखने को मिलेगा.

ऑलराउंडर्स का दिखेगा दम –

सीएसके ने शेन वॉटसन, रविन्द्र जडेजा, ड्वेन ब्रावो को बतौर ऑलराउंडर टीम में शामिल किया. वॉट्सन का पिछला आईपीएल सीजन ज्यादा अच्छा नहीं गया था. हालांकि इससे पहले वो इंटरनेशनल क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन कर चुके हैं. वहीं रविन्द्र जडेजा टीम इंडिया के बेहतरीन स्पिन गेंदबाज हैं. लेकिन पिछले काफी समय से वो बैटिंग में अपना प्रभाव नहीं छोड़ पाए हैं. आईपीएल में उनके प्रदर्शन को देखें तो वो संतोषजनक रहा है. इस सीजन में संभवत: चेन्नई उन्हें प्लेइंग में शामिल करेगी.

चेन्नई सुपरकिंग्स के प्रोग्राम में क्यों रो पड़े धोनी ?

ड्वेन ब्रावो पर नजर डालें तो वो आईपीएल के पिछले सीजन में नहीं खेला पाए थे. लेकिन इससे पहले 2016 में गुजरात लायंस की तरफ से खेल चुके हैं. हालांकि इस दौरान उन्होंने ज्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए थे. इनके अलावा मिचले सेंटेनर और चैतन्य बिश्नोई भी टीम का अहम हिस्सा होंगे.

टीम में शामिल हैं तीन विकेटकीपर्स –

मुंबई इंडियन्स के लिए कई अहम मुकाबलों में बेहतरीन विकेटकीपिंग कर चुके अंबाती रायडु अब चेन्नई का हिस्सा हैं. वो आईपीएल 2017 में सिर्फ 5 मैच खेले पाए थे. इस सीजन में उन्होंने प्रभावी प्रदर्शन नहीं किया था. वो आईपीएल के 114 मैचों में 2416 रन बना चुके हैं. इसके अलावा उन्होंने 45 कैच पकड़े हैं.

IPL के लिए अपनी ‘बैटरी’ ऐसे रिचार्ज कर रहे हैं ये क्रिकेट सुपरस्टार

रायडु के अलावा टीम ने सैम बिलिंग्स को टीम में शामिल किया है. बिलिंग्स ने आईपीएल में अभी तक सिर्फ 11 मैच खेले हैं. लिहाजा संभव है कि सीएसके शुरुआती मैचों के लिए प्लेइंग इलेवन में रायडु को शामिल करे. इनके अलावा तमिलनाडु के खिलाड़ी नारायण जगदीसन को टीम में शामिल किया गया है. जगदीसन अनुभवी नहीं है और यह उनका पहला आईपीएल सीजन होगा.

अनुभवी हैं गेंदबाज लेकिन उम्र का दिख सकता है असर –

चेन्नई ने हरभजन सिंह और इमरान ताहिर को बेहद सोच समझकर खरीदा होगा. क्यों इन दोनों गेंदबाजों की उम्र 35 साल से ज्यादा है. हालांकि ताहिर ने हाल में पाकिस्तान सुपर लीग में अच्छा प्रदर्शन कर यह संकेत दिया कि उनकी गेंदबाजी अब भी धारदार है. लेकिन हरभजन सिंह पिछले काफी समय से इंटरनेशनल मैचों में नहीं खेले हैं. आईपीएल के पिछले सीजन में औसत प्रदर्शन किया था. लिहाजा यह देखना दिलचस्प होगा कि सीएसके इस बार किन गेंदबाजों को प्लेइंग इलेवन के लिए प्राथमिकता देगी.

युवा गेंदबाजों पर नजर डालें तो शार्दुल ठाकुर और लुंगी एन्गिडी हैं. इन दोनों गेंदबाजों ने पिछले इंटरनेशनल मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया है. लिहाजा संभव है कि इन दोनों को प्लेइंग इलेवन में शामिल किया जायेगा. इनके अलावा मार्क वुड, कर्ण शर्मा, दीपक चाहर, मोनू कुमार सिंह, केएम आसिफ, कनिष्क सेठ और क्षितिज शर्मा भी टीम का हिस्सा हैं. बतौर गेंदबाज इन खिलाड़ियों का प्रदर्शन अच्छा रहा है.