नई दिल्ली: दो साल बाद वापसी कर रही चेन्नई ने इंडियन टी-20 लीग के 11वें संस्करण का आगाज जीत के साथ किया है. उसने शनिवार को वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए सीजन के पहले मैच में मौजूदा विजेता मुंबई इंडियंस को रोमांचक मुकाबले में एक विकेट से हरा दिया. मुंबई ने पहले बल्लेबाजी करते हुए चेन्नई के सामने 166 रनों का लक्ष्य रखा था. दो बार की पूर्व विजेता चेन्नई ने ड्वेन ब्रावो की 30 गेंदों में तीन चौके और सात छक्कों की पारी के अलावा चोटिल केदार जाधव की नाबाद 24 रनों की पारी के दम पर एक गेंद शेष रहते हुए लक्ष्य हासिल कर लिया.

पहले नहीं मिला दाम, अब आयेंगे इनके काम…IPL के 5 ‘पटाखे’

एक समय चेन्नई की हार तय लग रही थी, लेकिन ब्रावो ने अंतिम ओवरों में तेजी से रन बटोर चेन्नई को जीत के करीब पहुंचा दिया. हालांकि 19वें ओवर की आखिरी गेंद पर आउट हो गए थे, लेकिन जाने से पहले उन्होंने इसी ओवर में जसप्रीत बुमराह पर तीन छक्के जड़े. ब्रावो जब आउट हुए तब चेन्नई को एक ओवर में सात रनों की जरूरत थी. ऐसे में मांसपेशियों में खिंचाव के कारण 13वें ओवर की पांचवीं गेंद पर मैदान से बाहर गए जाधव ने वापसी की और आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर छक्का और फिर पांचवीं गेंद पर चौका मार चेन्नई को जीत दिलाई.

IPL 2018: सबसे ज्यादा शतक जड़ने के मामले में दूसरे नंबर पर कोहली, ये हैं टॉप 5 खिलाड़ी

लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई का मजबूत बल्लेबाजी क्रम आईपीएल पदार्पण कर रहे युवा लेग स्पिनर मयंक मरकंडे और हार्दिक पांड्या के सामने टिक नहीं सका. दोनों ने तीन-तीन विकेट अपने नाम किए. मयंक ने रायुडू, महेंद्र सिंह धोनी के अहम विकेट लिए. पांड्या ने चेन्नई को अच्छी शुरुआत से महरूम रखा और चौथे ओवर की चौथी गेंद पर 27 के कुल स्कोर पर शेन वॉटसन (16) को इविन लुइस के हाथों कैच कराया.

पांड्या ने अपना अगला शिकार आईपीएल के सबसे सफल बल्लेबाज सुरेश रैना (4) को बनाया. रैना का विकेट 42 के कुल स्कोर पर गिरा. अगले ही ओवर में मयंक ने रायुडू को पवेलियन भेज दिया. नौ रन बाद धोनी (5) मयंक की गुगली को पढ़ नहीं पाए और पगबाधा करार दे दिए गए. रवींद्र जडेजा (12) को मुस्तफिजुर रहमान ने आउट किया. हरभजन सिर्फ आठ रन ही बना सके.

आईपीएल में मलिंगा ने लिए हैं सबसे ज्यादा विकेट, पढ़ें कौनसे स्थान पर हैं चेन्नई के भज्जी

अंत में ब्रावो ने आतिशी पारी खेल टीम को जिताने की कोशिशें की जिसे जाधव ने अंजाम दिया. इससे पहले, बल्लेबाजी का आमंत्रण मिलने पर पहली पारी खेलने उतरी मुंबई को क्रुणाल पांड्या (नाबाद 41) ने सम्मानजनक स्कोर प्रदान किया. अंत में क्रुणाल की आतिशी पारी के कारण ही मुंबई ने 20 ओवरों में चार विकेट खोकर 165 रन बनाए. क्रुणाल के अलावा सूर्यकुमार यादव ने 29 गेंदों में छह चौके और एक छक्के की मदद से 43 रनों की पारी खेली, जबकि ईशान किशन ने भी इतनी ही गेंदों में चार चौके और एक छक्का लगाते हुए 40 रन बनाए.

मुंबई की शुरुआत अच्छी नहीं रही. दीपक चाहर ने इविन लुइस को तीसरे ओवर की पहली गेंद पर सात के कुल स्कोर पर पगबाधा आउट कर दिया. शेन वॉटसन ने रोहित शर्मा (15) को पैर जमाने नहीं दिए और अंबाती रायुडू के हाथों 20 के कुल स्कोर पर कैच कराया. सूर्यकुमार यादव ने ईशान किशन के साथ मिलकर मुंबई की पारी को संभाला और स्कोर 98 तक पहुंचा दिया. इसी स्कोर पर वह वॉटसन की गेंद पर हरभजन सिंह के हाथों लपके गए. ईशान भी अपना अर्धशतक पूरा नहीं कर पाए और इमरान ताहिर ने उन्हें मार्क वुड के हाथों कैच कराया.

लग रहा था कि मुंबई चेन्नई को 150 के स्कोर से आगे नहीं जाने देगी, लेकिन क्रुणाल ने आतिशी अंदाज में बल्लेबाजी करते हुए उसे बचाव करने लायक स्कोर दे दिया है. क्रुणाल के भाई हार्दिक 20 गेंदों में दो चौकों की मदद से 22 रन बनाकर नाबाद रहे. चेन्नई की तरफ से शेन वॉटसन ने दो विकेट लिए. दीपक और ताहिर को एक-एक सफलता मिली.