नई दिल्ली. गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत और पाकिस्तान के बीच हॉकी का बेहद रोमांचक मुकाबला हुआ. मैच के शुरुआत से ही दोनों टीमें एक-दूसरे पर हावी होने की कोशिश करती दिखीं. उनकी ये कोशिश आखिरी पलों में भी नजर आई. मैच के चौथे क्वॉर्टर तक भारत 2-1 से बढ़त बनाए हुए था. ऐसा लग रहा था कि पाकिस्तान हार जाएगा, लेकिन आखिरी 7 सेकंड में उसने पासा पलट दिया और पेनाल्टी कॉर्नर के जरिए गोल दागकर मुकाबला को 2-2 की बराबरी पर ला दिया.

इस मुकाबले में भारत ने शुरुआत से ही जोरदार हमले किए. भारत की तरफ से पहला गोल 13वें मिटन में 18 साल के दिलप्रीत सिंह ने किया. कॉमनवेल्थ खेलों में यह उनका पहला गोल था. इसके बाद दूसरा गोल पेनल्टी कॉर्नर पर हरमप्रीत सिंह ने 19वें मिनट में किया. पाकिस्तान की ओर से इरफान जूनियर ने 38 में मिनट में गोल किया. इसके अलावा 60वें मिनट में अली मुबाशर पेनल्टी कॉर्नर से गोलकर पाकिस्तान की लाज बचाई.

CWG 2018: टेबल टेनिस के सेमीफाइनल में पहुंचा भारत

CWG 2018: टेबल टेनिस के सेमीफाइनल में पहुंचा भारत

पाकिस्तान की टीम इस गोल के जरिए मुकाबले में वापसी की कोशिश की. चौथे क्वार्टर में पाकिस्तान की लेफ्ट विंग से जोरदार हमले भी किए. भारतीय टीम उसे कोई मौका नहीं दिया. सांसें रोक देने वाले इस मुकाबले के आखिरी मिनट में पाकिस्तान ने पेनल्टी कॉर्नर के जरिए स्कोर को बराबरी पर ला दिया.

भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले मुकाबलों का एक अलग इतिहास रहा है. यह सिर्फ मैच नहीं, बल्कि यहां दोनों देशों के प्रशंसकों की भावनाओं का प्रदर्शन होता है. इस मुकाबले में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिला. गोल्ड कोस्ट में होने के बावजूद इस मुकाबले को देखने के लिए हजारों फैंस की भीड़ स्टेडियम में मौजूद थी.

CWG 2018 : इंजरी के बावजूद सतीश शिवालिंगम ने भारत को वेटलिफ्टिंग में दिलाया तीसरा गोल्ड

CWG 2018 : इंजरी के बावजूद सतीश शिवालिंगम ने भारत को वेटलिफ्टिंग में दिलाया तीसरा गोल्ड

क़ॉमनवेल्थ खेलों में भारत और पाकिस्तान के बीच हॉकी के टर्फ पर ये तीसरी टक्कर थी. इससे पहले 2006 मेलबर्न कॉमनवेल्थ में पाकिस्तान ने भारत को हराया था जबकि 2010 दिल्ली कॉमनवेल्थ में भारत ने पाकिस्तान को रौंदा था. उसके बाद गोल्ड कोस्ट में हुई तीसरी भिड़ंत दोनों टीमों के बीच बराबरी पर खत्म हुआ.