नई दिल्ली: आईपीएल की टीम सनराइजर्स हैदराबाद के युवा खिलाड़ी दीपक हुड्डा का मानना है कि टीम के नए कप्तान केन विलियमसन अच्छे कप्तान साबित होंगे और टीम उनके मार्गदर्शन में अच्छा प्रदर्शन करेगी. ऑस्ट्रेलिया के डेविड वॉर्नर को केपटाउन टेस्ट में बॉल टेम्परिंग विवाद के कारण क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 12 महीनों के लिए प्रतिबंधित कर दिया है और इसी के चलते बीसीसीआई ने वॉर्नर को आईपीएल के इस सीजन में खेलने की मनाही कर दी है.

स्मिथ-वॉर्नर के बाद एक और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी आईपीएल से हुआ बाहर, कोलकाता को 9.40 करोड़ का नुकसान

वॉर्नर को हटाए जाने के बाद फ्रेंचाइजी ने न्यूजीलैंड की राष्ट्रीय टीम के कप्तान विलियमसन को कप्तान बनाया है. वॉर्नर के रहते ही सनराइजर्स ने 2016 में आईपीएल का खिताब जीता था. दीपक ने कहा कि वॉर्नर अच्छे कप्तान थे लेकिन उन्हें उम्मीद है कि विलियमसन के नेतृत्व में भी टीम शानदार प्रदर्शन करेगी. दीपक ने कहा, “डेविड वॉर्नर अच्छे कप्तान थे, लेकिन केन विलियमसन भी अच्छे कप्तान साबित होंगे. दो साल से वो भी टीम के साथ हैं. वो भी खिलाड़ियों को जानते हैं. हम उनके रहते आत्मविश्वास महसूस कर रहे हैं. वो अपनी देश की टीम के कप्तान हैं, इससे ज्यादा और क्या चाहिए.”

IPL2018 TeamPreview: चेन्नई में शामिल हैं कई अनुभवी खिलाड़ी, लेकिन इस वजह से टीम को उठाना पड़ सकता है बड़ा नुकसान

आईपीएल के पिछले सीजन में टीम खिताब बचाने की दावेदार मानी जा रही थी, लेकिन ऐसा नहीं कर पाई. दीपक को लगता है कि पिछली बार टीम में जो कमी थी वो इस सीजन में नहीं है और इस बार टीम पहले से बेहतर प्रदर्शन करेगी. बकौल दीपक, “हमारी टीम अच्छी है. पिछले सीजन में टीम में जो कमियां थीं वो इस बार नहीं लग रही हैं और टीम पूरी लग रही है. मेरे हिसाब से टीम काफी अच्छी है और हम अच्छा प्रदर्शन करेंगे.”

दीपक को दो बार भारतीय टीम में चुना गया था. वह पिछले साल दिसंबर में श्रीलंका के खिलाफ खेली गई तीन टी-20 मैचों की सीरीज में पहली बार टीम में जगह बनाने में सफल रहे थे. वहीं इसी साल निदास ट्रॉफी में भी वह राष्ट्रीय टीम का हिस्सा थे. हालांकि वह अंतिम एकादश में जगह नहीं बना पाए थे. इस पर दीपक ने कहा कि उनके हाथ में सिर्फ अंतिम-15 में जगह बनाना है.

उन्होंने कहा, “अंतिम एकदाश में जगह बनाना, सब समय की बात है. जब लिखा होगा तब मिलेगा. मेरे हाथ में 15 खिलाड़ियों में शामिल होना है. इसके बाद टीम प्रबंधन को देखना होता है कि उन्हें क्या चाहिए. उस हिसाब से मैं फिट नहीं बैठा होऊंगा. लेकिन, मौके कम नहीं हैं. आगे मौके मिलते रहेंगे, बस उन्हें भुनाना है. आईपीएल अच्छा मौका है.”

बॉल टेम्परिंग पर अब अश्विन ने दी प्रतिक्रिया, स्मिथ-वॉर्नर के लिए कही ये बड़ी बात

दो बार भारतीय टीम का हिस्सा बनने पर क्या सीखने को मिला? इस सवाल के जवाब में 22 साल के इस युवा खिलाड़ी ने कहा, “मुझे सीखने को मिला कि वो (सीनियर खिलाड़ी) कैसे अपने आप को तैयार करते हैं. वो लोग काफी पेशेवर हैं. वो अपनी डाइट को लेकर काफी गंभीर हैं. टीम में काफी आत्मविश्वास है. वो प्रतिबद्ध रहते हैं कि बुरी परिस्थिति में भी हमको अच्छा खेलना है, कहां सुधार कर सकता हूं, मेरा टीम में क्यो रोल है. कैसे मैं बेहतर खिलाड़ी बन सकता हूं.” (एजेंसी इनपुट के साथ)