सिडनी। ऑस्ट्रेलियाई कोच डेरेन लीमैन भले ही गेंद से छेड़खानी के मामले में पाक साफ करार दिए गए हों लेकिन हर कीमत पर जीत की जो मानसिकता उन्होंने टीम में भरी है, अब उस पर सवालिया ऊंगली उठने लगी है. लीमैन ने जब 2013 में कोच का पद संभाला जब उन्हें ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट का संकटमोचक माना गया था लेकिन अब उन्हें टीम में दूषित संस्कृति भरने का आरोपी माना जा रहा है जिससे ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट की छवि को काफी नुकसान हुआ है.

कोच बनने के बाद जब लीमैन से उनकी तीन प्राथमिकताएं पूछी गई तो उनका जवाब था,‘जीत , जीत और जीत.’उस समय क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कार्यकारी जेम्स सदरलैंड ने कहा था, अनुशासन, अच्छा आचरण और प्रदर्शन के लिए जवाबदेही में भी सुधार की जरूरत है और यह मुख्य कोच का काम है. लीमैन के कोच रहते ऑस्ट्रेलिया ने 30 टेस्ट जीते, 19 हारे और आठ ड्रॉ खेले.

स्मिथ, वार्नर और बैनक्राफ्ट को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने वापस बुलाया, लेहमन बने रहेंगे कोच

स्मिथ, वार्नर और बैनक्राफ्ट को क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने वापस बुलाया, लेहमन बने रहेंगे कोच

और आक्रामक हुई ऑस्ट्रेलियाई टीम

हालांकि लीमैन ने अपनी कोचिंग कार्यकाल में ऑस्ट्रेलिया को मजबूत टीम के तौर पर स्थापित किया लेकिन इस दौरान ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटरों को आलोचनाओं का भी शिकार बनना बड़ा. क्रिकेटरों की आक्रामकता और विरोधी खिलाड़ियों पर छींटाकशी के चलते टीम निशाने पर ही रही. लेकिन आलोचनाओं से बेपरवाह ये टीम हर हाल पर जीत की का गुरुमंत्र लेकर आगे बढ़ती रही और आक्रामक बर्ताव जारी रहा.

बॉल टैंपरिंग केस में उंगली डेरेन लीमैन पर भी उठी थी. लेकिन उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई. स्टीव स्मिथ ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान माना कि ये आइडिया उनका, डेविड वॉर्नर और बेनक्राफ्ट का था. इसमें कोच की कोई भूमिका नहीं है. जांच में भी लीमैन के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला. लेकिन कई पूर्व क्रिकेटरों ने इसके लिए लीमैन को भी दोषी माना है और उन्हें भी हटाने की मांग की.

स्मिथ-वॉर्नर पर एक साल का बैन

गेंद से छेड़खानी के मामले में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर एक साल का प्रतिबंध लगा दिया जिससे वे आईपीएल 11 और भारत के खिलाफ इस साल के आखिर में घरेलू सीरीज नहीं खेल सकेंगे. कैमरन बेनक्रोफ्ट पर नौ महीने का प्रतिबंध लगाया गया है. स्मिथ, वार्नर और बेनक्रोफ्ट को दक्षिण अफ्रीका से स्वदेश भेज दिया गया है. उन्होंने गेंद से छेड़खानी का अपराध कबूल कर लिया था. मुख्य कोच डेरेन लीमैन को क्लीन चिट दी गई है. टिम पेन आखिरी टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के कप्तान होंगे जबकि मैट रेनशॉ, ग्लेन मैक्सवेल और जो बर्न्स गुरुवार को वहां पहुंचेंगे.