नई दिल्ली: मजबूत प्रदर्शन से महिला टी20 त्रिकोणीय सीरीज के फाइनल में पहुंचने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम शनिवार को मुंबई में इंग्लैंड के खिलाफ खिताबी भिड़ंत में शानदार प्रदर्शन को दोहराना चाहेगी. हालांकि इंग्लैंड के लिए यह काफी मुश्किल हो सकता है क्योंकि उन्हें लगातार मैचों में हार का मुंह देखना पड़ा.

इंग्लैंड ने अपना अभियान लगातार दो जीत से किया, जिसमें उसने भारत के खिलाफ टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में सबसे बड़े लक्ष्य को हासिल करने का रिकॉर्ड भी हासिल किया. लेकिन पिछले दो मैचों में उसकी बल्लेबाजों ने काफी निराश किया. इंग्लैंड को अपने अंतिम दो मैचों में ऑस्ट्रेलिया और भारत से हार मिली. उनकी खिलाड़ियों को इसे भुलाकर कल के मैच के लिये तैयार होने की जरूरत है.

स्मिथ-वॉर्नर के बाद एक और ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी आईपीएल से हुआ बाहर, कोलकाता को 9.40 करोड़ का नुकसान

अगर इंग्लैंड बल्लेबाजी में अच्छा करना है तो उनकी फॉर्म में चल रही सलामी बल्लेबाज डेनियली वाट को फिर से बड़ा स्कोर बनाना होगा. लेकिन ऐसी पिच पर उन्हें भी अन्य बल्लेबाज जैसे नटाली स्किवर, तमसिन ब्यूमोंट और कप्तान हीथर नाइट के सहयोगी जरूरत होगी, जहां गेंद आराम से बल्ले पर आती है.

इंग्लैंड की बल्लेबाजों को भारतीय स्पिनरों को खेलने में दिक्कत का सामना करना पड़ा और उन्हें ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों के खिलाफ सतर्क रहना होगा विशेषकर जेस जोनासेन के खिलाफ. उनकी गेंदबाज कैटी जॉर्ज, ताश फरांट और अनुभवी जेनी गुन को ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को रन बनाने से रोकने के लिये अच्छा करना होगा.

बॉल टेम्परिंग पर अब अश्विन ने दी प्रतिक्रिया, स्मिथ-वॉर्नर के लिए कही ये बड़ी बात

वहीं ऑस्ट्रेलिया की ज्यादातर बल्लेबाज बेथ मूने, एलीसा हीली, कप्तान मेग लैनिंग, एलिसे विलानी, एलिसे पेरी रन बना रही हैं और अगर इन्हें एकजुट होकर बल्लेबाजी करनी है तो उन्हें किसी भी गेंदबाजी आक्रमण की धज्जियां उड़ानी होगी. उनकी तेज गेंदबाज मेगान स्कूट शानदार फॉर्म में हैं और अगर ऑस्ट्रेलिया को विपक्षी टीम की बल्लेबाजों को रोकना है तो उन्हें एक बार फिर शानदार प्रदर्शन करना होगा. उन्हें मध्यम गति की डेलिसा किमिंस, स्पिनर एशले गार्डनर और जोनासन से सहयोग मिलेगा. (एजेंसी इनपुट के साथ)