नई दिल्ली। श्रीलंका के खिलाफ पहले दो टेस्ट के लिए भारतीय टीम से गैरमौजूदगी पर भ्रम की स्थिति को साफ करते हुए आलराउंडर हार्दिक पंड्या ने आज कहा कि उन्होंने टीम प्रबंधन से खुद आराम का आग्रह किया था क्योंकि वह सौ फीसदी फिट महसूस नहीं कर रहे थे. पंड्या को पहले टीम में शामिल किया गया था लेकिन फिर उन्हें आराम दे दिया गया. 

हार्दिक पंड्या ने तूफानी बैटिंग से रचा इतिहास, श्रीलंका के खिलाफ ठोका आतिशी शतक

हार्दिक पंड्या ने तूफानी बैटिंग से रचा इतिहास, श्रीलंका के खिलाफ ठोका आतिशी शतक

बीसीसीआई की प्रेस विज्ञप्ति में साफ नहीं किया गया कि थकान या चोट के कारण ऐसा किया गया है या नहीं. पंड्या ने सीएनएन-न्यूज18 से कहा कि ईमानदारी से कहूं तो मैंने इसकी मांग की थी. मेरा शरीर इसके लिए तैयार नहीं था. मैं जितना क्रिकेट खेल रहा था उसके कारण मुझे छोटी मोटी चोटें लग रही थी. मैं उस समय क्रिकेट खेलना चाहता हूं जब मैं इसके लिए पूरी तरह से तैयार रहूं, जब मैं अपना शत प्रतिशत दे सकूं.

उन्होंने कहा कि मैं भाग्यशाली हूं कि मुझे ब्रेक मिला. ब्रेक के दौरान मैं जिम में ट्रेनिंग करूंगा और अपनी फिटनेस में सुधार करूंगा. मैं दक्षिण अफ्रीका सीरीज को लेकर रोमांचित हूं. मैं इस ब्रेक का इस्तेमाल अपनी फिटनेस में सुधार के लिए करना चाहता हूं.

पंड्या अपी फिटनेस और स्ट्रैंथ में सुधार के लिए एनसीए जाएंगे. पंड्या ने उम्मीद जताई कि वह अपनी आलराउंड क्षमता के कारण दक्षिण अफ्रीका में टीम के लिए अंतर पैदा कर पाएंगे. उन्होंने कहा कि हां, मैं काफी रोमांचित हूं. लोग इसके बारे में बात कर रहे हैं. इस सीरीज को लेकर काफी हाईप है. मुझे जीवन में चुनौती पसंद हैं. क्या पता मैं वहां अंतर पैदा कर सकूं. मुझे यकीन है कि हम काफी अच्छा खेलेंगे.