नई दिल्लीः भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां से अपने पति से हर महीने 10 लाख रुपए गुजारा भत्ते की मांग की है. यानी एक करोड़ 20 लाख सालाना गुजारा भत्ते की मांग की है.उन्होंने खुद की और बेटी के भरण पोषण के लिए यह गुजारा भत्ता मांगा है. घरेलू हिंसा अधिनियम 2005 के तहत दर्ज केस की सुनवाई करते हुए अलीपुर कोर्ट ने शमी और अन्य आरोपियों से समन मिलने के 15 दिन के अंदर कोर्ट में पेश होने को कहा है.

भारतीय क्रिकेटर की पत्नी हसीन जहां के वकील जाकिर हुसैन ने बताया कि मैजिस्ट्रेट ने याचिका पर सुनवाई के बाद दूसरे पक्ष को कारण बताओ नोटिस जारी किया. अगली सुनवाई 4 मई को है. हसीन जहां मंगलवार को सुबह करीब 10:30 बजे कोर्ट पहुंचीं. यहां उन्होंने पति शमी, उनकी मां अंजुमन आरा बेगम, बहन सबीना अंजुम, भाई मो.हसीब अहमद और हसीब की पत्नी शमा परवीन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. जाकिर ने बताया कि यह केस पहले के केस से अलग है. शमी ने हसीन को कोई पैसा नहीं दिया. उन्होंने एक लाख का चेक दिया था जो बाउंस हो गया था. अब हसीन जहां के पास खर्च चलाने के लिए भी पैसे नहीं हैं.

उन्होंने कोर्ट से कहा कि मोहम्मद शमी हर साल लगभग 100 करोड़ कमाते हैं, इसलिए उनके लिए जहां को पैसे देने में कोई समस्या नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि परिवार का ध्यान रखना शमी का फर्ज है. इसलिए 7 लाख रुपये हर महीने हसीन जहां और तीन लाख रुपये बच्चे के लिए मांगे गए हैं.

गौरतलब है कि मोहम्मद शमी की पत्नी हसीन जहां ने इस तेज गेंदबाज पर एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर सहित कई तरह के आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया है. उन्होंने शमी पर मैच फिक्सिंग का भी आरोप लगाया था. इसके बाद बीसीसीआई ने उनका सालाना कॉन्ट्रैक्ट खत्म कर दिया था. हालांकि जांच के बाद बीसीसीआई ने शमी को फिर से 3 करोड़ रुपए वाले सालाना कॉन्ट्रैक्ट में शामिल कर लिया था. पत्नी के आरोपों का सामना कर रहे शमी से पुलिस ने पूछताछ की थी और उनके घर की तलाशी भी ली थी. एक सड़क हादसे में घायल शमी ने अपनी पत्नी से मिलने से इनकार कर दिया था.