नई दिल्लीः सुरेश रैना ने कहा कि वह अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद भारतीय टीम से बाहर किए जाने के कारण काफी आहत हुए थे लेकिन अब फिर से वापसी के बाद वह दक्षिण अफ्रीका में आगामी टी20 सीरीज में इस मौके का पूरा फायदा उठाने को तैयार हैं. रैना ने एक न्यूज चैनल से बातचीत में कहा कि मैं दुखी हो गया था क्योंकि अच्छा करने के बावजूद मुझे टीम से बाहर कर दिया गया, लेकिन अब मैंने यो-यो टेस्ट पास कर लिया है और मैं फिट महसूस कर रहा हूं. इतने महीनों की कड़ी ट्रेनिंग के दौरान मेरी भारत के लिये खेलने की इच्छा और मजबूत ही हुई है.

उन्होंने कहा कि बात यहीं तक ही नहीं है. मुझे भारत के लिये जितना लंबे समय तक हो, खेलना है. मुझे 2019 विश्व कप खेलना है क्योंकि मैं जानता हूं कि मैंने इंग्लैंड में अच्छा प्रदर्शन किया है. मेरे अंदर अब भी काफी क्रिकेट बचा है और मुझे दक्षिण अफ्रीका में इन तीन मैचों में अच्छा प्रदर्शन करने का भरोसा है. इस 31 वर्षीय क्रिकेटर ने 223 वनडे और 65 वनडे खेले हैं.

ये भी पढ़ेंः विराट कोहली के मुरीद हैं कैलिस, लेकिन उनकी ये बात नहीं है पसंद

गौरतलब है कि अनुभवी बल्लेबाज सुरेश रैना को घरेलू स्तर पर अच्छे प्रदर्शन के कारण दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 18 फरवरी से शुरू होने वाली तीन मैचों की टी20 श्रृंखला के लिए भारतीय टीम में चुना गया. रैना ने फिटनेस से जुड़ी समस्याओं को भी दूर किया और विराट कोहली की अगुवाई वाली 16 सदस्यीय टीम में जगह बनाने में सफल रहे. बाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच इंग्लैंड के खिलाफ फरवरी 2017 में टी20 मैच के रूप में खेला था. इसके बाद फिटनेस कारणों से वह टीम से बाहर चल रहे थे. अनिवार्य यो यो टेस्ट में सफल होने के कारण भी उनकी वापसी संभव हो पाई.

ये भी पढ़ेंः सेंचुरियन में टीम इंडिया के सितारे बुलंद, ऐसा करने वाले विराट कोहली बनेंगे दूसरे कप्तान

इसके अलावा रैना ने हाल में समाप्त हुई सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के सुपरलीग में भी शानदार प्रदर्शन किया था. उन्होंने उत्तर प्रदेश की तरफ से एक शतक के अलावा दो अर्धशतक भी लगाए थे. भुवनेश्वर कुमार और शिखर धवन की भी टीम में वापसी हुई है. उन्हें श्रीलंका के खिलाफ पिछली टी20 श्रृंखला में विश्राम दिया गया था. उस श्रृंखला में कोहली को भी विश्राम मिला था और उनकी अनुपस्थिति में रोहित शर्मा ने टीम की अगुवाई की थी.