मोहाली (पंजाब)। भारतीय टीम ने मंगलवार को इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में जीत हासिल करते हुए पंजाब क्रिकेट संघ (पीसीए) स्टेडियम में अपने विजयी क्रम को जारी रखा है। भारत ने इंग्लैंड को यहां आठ विकेट से हराकर पांच मैचों की श्रृंखला में 2-0 की बढ़त ले ली है।

भारत की इस जीत के साथ ही भारतीय कप्तान विराट कोहली ने भी अपने नाम एक और इतिहास रच लिया है। विराट कोहली इंग्लैंड के खिलाफ दो टेस्ट मैच में लगातार जीत हासिल करने वाले पांचवें कप्तान बन गए हैं। कोहली की कप्तानी में भारत ने पहले विशाखापत्तनम में जीत हासिल की और मोहाली में भी उनकी कप्तानी में भारत ने इंग्लैंड को पछाड़ते हुए जीत दर्ज की है।  इस रिकॉर्ड में पहले नंबर पर नारी कांट्रेक्टर शामिल हैं। इसके बाद यह रिकॉर्ड अजित वाडेकर के नाम है। कपिल देव ने यह रिकॉर्ड 1986 में अपने नाम किया था। मो. अजहरूद्दीन भी इस रिकॉर्ड की लिस्ट में शामिल हैं। अब विराट कोहली ने यह रिकॉर्ड अपने नाम किया है। विराट कोहली के रूप में 23 साल बाद किसी भारतीय कप्तान ने यह रिकॉर्ड बनाया है। यह भी पढ़े-भारत ने इंग्लैंड को दी 8 विकेट से करारी शिकस्त, श्रृंखला में 2-0 की बढ़त

भारत ने यहां कुल 13 टेस्ट मैच खेले हैं और सात में उसे जीत मिली है। उसे इस स्टेडियम में इकलौती हार यहां खेले गए उद्घाटन मैच में वेस्टइंडीज के हाथों मिली थी। लेकिन इसके बाद भारतीय टीम यहां कभी नहीं हारी। सात जीत के अलावा भारत ने यहां पांच मैच ड्रॉ कराए हैं।

इसके अलावा भारत ने इस मैच में जीत हासिल कर लगातार 16 टेस्ट मैचों में अपराजित रहने का रिकार्ड भी बना लिया है। इससे पहले भारत 1985 से 1987 तक लगातार 17 मैचों में अपाजित रहा था।

टीम के कप्तान कोहली भी इस मैच में रिकार्ड अपने नाम करने में पीछे नहीं रहे। कोहली कप्तान के तौर पर पहले 20 मैचों में सबसे ज्यादा जीत दर्ज करने वाले भारतीय कप्तान भी बन गए हैं। उन्होंने 20 मैचों में 12 में जीत हासिल की है। इत्तेफाक से भारत की टेस्ट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धौनी ने भी अपने पहले 20 टेस्ट मैचों में से 12 में जीत हासिल की थी।

इन दोनों के अलावा सिर्फ पांच कप्तानों ने अपने पहले 20 मैचों में 12 से ज्यादा जीत दर्ज की हैं। इनमें स्टीव वॉ (15), माइक बीयरली (14), लिंडसे हैसट (14) माइकल वॉन (14) और रिकी पोंटिंग (13) शामिल हैं।