पाकिस्तान ने रविवार को चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत को 180 रन से हराकर पहली बार खिताब जीत लिया. पाकिस्तान ने पहले बैटिंग करते हुए 50 ओवर में 4 विकेट पर 338 रन बनाए और जवाब में भारत को महज 30.3 ओवरों में ही 158 रन पर समेट दिया. पाकिस्तान ने फाइनल में भारत को खेल के हर क्षेत्र में मात देते हुए बड़ी जीत दर्ज की. ये किसी भी आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में किसी भी टीम की सबसे बड़ी जीत है. इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 2003 के वर्ल्ड कप में 125 रन से हराया था.

भारत के लिए हार्दिक पंड्या को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज विकेट पर टिक नहीं सका. पंड्या ने 43 गेंदों पर 4 चौकों और 6 छक्कों की मदद से 76 रन की तूफानी पारी खेली. पाकिस्तान के लिए मोहम्मद आमिर और हसन अली ने 3-3 और शादाब खान ने 2 विकेट और जुनैद खान ने 1 विकेट लिया.

जीत के लिए मिले 339 रन के बड़े लक्ष्य के जवाब में भारतीय बैटिंग लाइन अप पूरी तरह बिखर गई और हार्दिक पंड्या को छोड़कर कोई और बल्लेबाज टिक नहीं पाया. मोहम्मद आमिर ने 9 ओवर के अंदर ही भारत के लिए ये मैच खत्म कर दिया.

मोहम्मद आमिर ने 3 विकेट झटकते हुए पाकिस्तान भारतीय बैटिंग की कमर तोड़ दी (icc)
मोहम्मद आमिर ने 3 विकेट झटकते हुए पाकिस्तान भारतीय बैटिंग की कमर तोड़ दी (icc)

 

उन्होंने तीसरी ही गेंद पर रोहित शर्मा को जीरो रन पर एलबीडब्ल्यू किया. तीसरे ओवर में विराट कोहली (5) को एक बेहतरीन गेंद पर शादाब खान के हाथों कैच आउट कराया और फिर नौवें ओवर में शिखर धवन (21) को आउट करके भारत का स्कोर 33/3 कर दिया और भारत की चुनौती लगभग खत्म कर दी.

इसके बाद तो भारत ने लगातर विकेट गंवाए, युवराज सिंह (22) 54 के स्कोर पर शादाब खान का शिकार बने, इसी स्कोर पर धोनी भी 4 रन बनाकर हसन अली की गेंद पर आउट हो गए. 72 के स्कोर पर केदार जाधव 9 रन बनाकर शादाब खान का दूसरा शिकार बने. इसके बाद पंड्या ने धुआंधार बैटिंग की और शादाब खान के एक ओवर में तीन लगातार छक्के जड़ते हुए 23 रन ठोक डाले. उन्होंने महज 32 गेंदों में ही अपनी हाफ सेंचुरी पूरी की.

हार्दिक पंड्या ने 43 गेंदों पर 76 रन की तूफानी पारी खेली (icc)
हार्दिक पंड्या ने 43 गेंदों पर 76 रन की तूफानी पारी खेली (icc)

 

लेकिन वह जब भारत का स्कोर 152 रन था तो 76 रन बनाकर रन आउट हो गए. इसके बाद भारतीय टीम को सिमटते देर नहीं लगी और पूरी टीम 158 रन बनाकर सिमट गई. जडेजा, अश्विन और बुमराह 1-1 रन बनाकर आउट हुए जबकि भुवनेश्वर 1 रन बनाकर नॉट आउट रहे.

इससे पहले पाकिस्तान ने फखर जमान (114) के शतक और अजहर अली (59) और मोहम्मद हफीज (57) के अर्धशतकों की मदद से टॉस हराकर पहले बैटिंग करते हुए 50 ओवर में 4 विकेट पर 338 रन बनाए. टॉस हारकर पहले बैटिंग के लिए उतरी पाकिस्तानी टीम को ओपनरों फखर जमान और अजहर अली ने सधी शुरुआत दिलाई. जमान नअजहर अली के साथ मिलकर पहले विकेट के लिए 23 ओवर मे 128 रन की जोरदार साझेदारी की.

इसी स्कोर पर अजहर अली 59 रन बनाकर रन आउट हो गए. लेकिन जमान ने बाबर आजम के साथ मिलकर अच्छी साझेदारी जारी रखी और अपना 92 गेंदों में 12 चौके और 2 छक्के की मदद से अपनी शतक पूरा किया. जमान 200 रन के स्कोर पर पंड्या की गेंद पर जडेजा के हाथों कैच आउट हुए. उन्होंने 106 गेंदों में 12 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 114 रन बनाए.

फखर जमान ने पाकिस्तान के लिए 114 रन की शानदार पारी खेली (icc)
मैन ऑफ द मैच फखर जमान ने पाकिस्तान के लिए 114 रन की शानदार पारी खेली (icc)

 

पाकिस्तान का तीसरा विकेट 247 के स्कोर पर शोएब मलिक के रूप में गिरा. मलिक 16 गेंदों में 12 रन बनाकर भुवनेश्वर कुमार का शिकार बने. इसके बाद 267 के स्कोर पर बाबर आजम 52 गेंदों में 46 रन बनाकर केदार जाधव की गेंद पर आउट हुए.

पाकिस्तान ने इसके बाद हफीज और इमाद वसीम की पांचवें विकेट के लिए हुई 45 गेंदों में 71 रन की नाबाद साझेदारी की मदद 50 ओवर में 4 विकेट पर 338 रन का स्कोर बना लिया. हफीज 34 गेंदों में 4 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 57 और इमाद 21 गेंदों में 1 चौके और 1 छक्के की मदद से 25 रन बनाकर नाबाद रहे.

पाकिस्तान के लिए शतक बनाने वाले फखर जमान को मैन ऑफ द मैच, टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा विकेट (13 विकेट) लेने वाले पाकिस्तानी गेंदबाज हसन अली को मैन ऑफ द टूर्नामेंट घोषित किया गया. हसन अली टूर्नामेेंट के सर्वश्रेष्ठ बॉलर भी घोषित किए गए. भारत के शिखर धवन सबसे ज्यादा 338 रन बनाकर टूर्नामेंट के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज रहे.