नई दिल्ली: साल 2007 के टी 20 वर्ल्‍डकप में टीम इंडिया को चैंयिपन बनाने में तेज गेंदबाज आरपी सिंह की अहम भूमिका रही थी. आरपी सिंह ने भारत की ओर से 14 टेस्‍ट, 58 वनडे और 10 टी20 इंटरनेशनल खेले हैं. महेंद्र सिंह धोनी की कप्‍तानी में साल 2007 में वर्ल्‍ड टी20 जीतने में आरपी सिं‍ह की अहम भूमिका निभाई थी. आरपी सिंह आज अपना 32वां जन्मदिन मना रहे हैं. आरपी सिंह का क्रिकेट करियर काफी उतार-चढ़ाव भरा रहा है. कभी फॉर्म तो कभी फिटनेस की वजह से वह टीम से बाहर होते रहे हैं.

2006 में क्रिकेट करियर शुरू करने वाले उत्तरप्रदेश के तेज गेंदबाज आरपी सिंह ने जबर्दस्त तरीके से अपना क्रिकेट करियर शुरू किया. 2006 में अपने डेब्यु टेस्ट मैच में ही आरपी ने अपनी शानदार गेंदबाजी के दम पर मैन ऑफ द मैच का खिताब जीता. यह भी पढ़ें: रविंद्र जडेजा ने ग्राउंड में किया कुछ ऐसा कि छूट गई हंसी

ये मैच पाकिस्तान में खेला गया था. उस मैच में उन्होंने 5 विकेट हासिल किए. अगले साल लॉर्ड्स में आरपी सिंह ने 7 विकेट लेकर अपने करियर का सबसे बेहतरीन प्रदर्शन किया. पहले टी20 टूर्नामेंट में वह सबसे कामयाब तेज गेंदबाज थे. उन्होंने उस सीरीज में सबसे कम रन देकर पूरी सीरीज में 12 विकेट झटके थे. हालांकि उसके बाद आरपी का प्रदर्शन स्थिर नहीं रह पाया और वह टीम इंडिया से बाहर हो गए.

आरपी सिंह से रणजी में खेले गए मैच के दौरान एक ऐसी हरकत की थी, जिसके बाद स्टेडियम में मौजूद फैंस उनसे नाराज हो गए थे. दरअसल, रणजी ट्रॉफी के फाइनल मैच के दौरान एक दर्शक आरपी सिंह के साथ सेल्फी लेना चाह रहा था.

लेकिन आरपी को यह इतनी नागवार गुजरी कि उन्होंने उस शख्स का फोन छीन लिया और मैदान में ही फेंक दिया. उस समय आरपी सिंह बाउंड्री लाइन पर फील्डिंग कर रहे थे. फील्डिंग के दौरान फैंस उनकी तस्वीरें खींचने लगे. हद तो तब हो गई जब मैच के दौरान आरपी सिंह ने दर्शकों को मिडिल फिंगर दिखा दी. इतने में एक दर्शक ने अपने मोबाइल से सेल्फी लेना चाहा लेकिन वह ऐसा करने में कामयाब नहीं हो पाया.

आरपी जब उस शख्स का मोबाइल छीन फेक रहे थे तो स्टेडियम में बैठे दर्शकों में से किसी एक ने उनकी इस हरकत का वीडियो बना लिया, जिसके बाद सोशल मीडिया पर यह तेजी के साथ वायरल हो गया.