दक्षिण अफ्रीका के स्टार बल्लेबाज जेपी डुमिनी ने टेस्ट और प्रथम श्रेणी क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. डुमिनी ने शुक्रवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि लंबे विचार के बाद मैंने टेस्ट और प्रथम श्रेणी क्रिकेट से तत्काल प्रभाव से संन्यास लेने का फैसला किया है.

क्रिकेट साउथ द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में इसकी जानकारी दी गई है. इसके मुताबिक डुमिनी ने कहा, ‘मैं निश्चित तौर पर जानता हूं कि मेरे करियर अभी खत्म होने से काफी दूर है और मुझे उम्मीद है कि ऐसा क्रिकेट साउथ अफ्रीका और केब कोबराज, साथी खिलाड़ियों, परिवार, दोस्तों और समर्थकों के समर्थन के बल पर होगा. मुझे उस खेल के लिए अपना योगदान देने का मौका मिलता रहेगा जिसे मैं बहुत प्यार करता हूं.’

डुमिनी ने कहा, ‘लेकिन लंबे और सावधानीपूर्वक विचार-विमर्श के बाद, मैंने टेस्ट क्रिकेट और प्रथम श्रेणी क्रिकेट से तत्काल प्रभाव से संन्यास लेने का फैसला किया है.’ उन्होंने कहा, ‘मैंने पिछले 16 सालों से अपने देश का 46 टेस्ट मैचों में प्रतिनिधित्व करने और केब कोबराज का 108 प्रथम श्रेणी मैचों में प्रतिनिधित्व करने का पूरा लुत्फ उठाया.’

2008 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू करने के बाद से डुमिनी दक्षिण अफ्रीक के प्रमुख खिलाड़ियों में से एक रहे हैं. डुमिनी पर्थ की वाका पिच पर अपने डेब्यू मैच में हाफ सेंचुरी जमाई थी और इसके बाद मेलबर्न में खेले गए दूसरे टेस्ट में 166 रन की जादुई पारी खेली थी.

डुमिनी ने दक्षिण अ्फ्रीका के लिए अपना आखिरी टेस्ट इसी साल जुलाई में इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स में खेला था जिसमें दक्षिण अफ्रीका को 211 रन से शिकस्त मिली थी. डुमिनी ने अपने टेस्ट करियर में 46 मैचों में 2103 रन बनाए, जिनमें 6 शतक और 8 अर्धशतक शामिल हैं. उन्होंने अपने 108 प्रथम श्रेणी मैचों में 6778 रन बनाए जिनमें 20 शतक और 30 अर्धशतक शामिल हैं.

टेस्ट क्रिकेट और प्रथम श्रेणी से संन्यास के बावजूद डुमिनी दक्षिण अफ्रीका और केब कोबराज के लिए वनडे और टी20 क्रिकेट खेलते रहेंगे. इस साल होने वाली टी20 ग्लोबल लीग में वह शाहरुख खान की टीम केपटाउन नाइटराइडर्स की कप्तानी करेंगे.