नई दिल्ली. भारत का इंग्लैड दौरा जुलाई से शुरू हो रहा है. इस दौरे के लिए विराट कोहली के कदम गोरों की धरती पर 26 दिन पहले पड़ने वाले हैं. लेकिन उससे पहले ही इंग्लैंड की क्रिकेट फैटरनिटी में हड़कंप मच गया है. इस हड़कंप को लेकर जो पहला बड़ा बयान सामने आया है वो है पूर्व तेज गेंदबाज बॉब विलिस का. विलिस ने इंग्लैंड को चेताते हुए कहा है कि उन्हें विराट कोहली को काउंटी क्रिकेट में खेलने की इजाजत नहीं देनी चाहिए थी. ऐसा कर वो नहीं जानते कि वो क्या कर रहे हैं. बॉब विलिस 70 और 80 के दशक में वर्ल्ड क्रिकेट के एक जाने माने नाम रहे हैं. वो इंग्लैंड की पेस बैटरी के अगुआ रहे हैं. उस दौर में कैरेबियाई चौकड़ी के बीच उन्होंने अपना एक अलग मुकाम बनाया था. ऐसे में एक तेज गेंदबाज की हैसियत से वो बेहतर जानते हैं कि विराट कोहली को काउंटी क्रिकेट खिलाना इंग्लैंड को कितना महंगा पड़ सकता है. काउंटी में कोहली ससेक्स के लिए खेलते दिखेंगे.

‘विराट को काउंटी खिलाना बेवकूफी’

विराट को काउंटी में खेलने की इजाजत देने के फैसले को बेवकूफी भरा फैसला बताते हुए बॉब विलिस ने कहा,’ कोहली को काउंटी खिलाकर इंग्लैंड उन्हें हर मैच के लिए पांच अंकों में भुगतान कर रहे हैं ताकि वो टेस्ट सीरीज से पहले इंग्लिश परिस्थितियों में ढल जाएं.’ उनके मुताबिक, ‘ हमें कोहली को इंग्लैंड में वैसे ही स्ट्रगल करने देना चाहिए जैसा वो पहले करते आए हैं. मैं नहीं चाहता कि इंग्लैंड विराट जैसे विदेशी खिलाड़ियों को काउंटी में खिलाने की वजह से मैच हारने लग जाए.’

काउंटी खेलने के पीछे विराट का मकसद

बॉब विलिस के इस बयान की खास वजह है. दरअसल वो वर्ल्ड क्रिकेट में विराट कोहली के कद से अच्छा तरह वाकिफ हैं. वो जानते हैं कि टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली का काउंटी क्रिकेट में खेलना उनके मास्टर प्लान का एक अहम हिस्सा है. दरअसल, ऐसा कर विराट बतौर कप्तान और बतौर बल्लेबाज अपनी सबसे बड़ी कमाई करना चाहते हैं.

विराट से अपने रिश्ते को लेकर क्यों बोले नेहरा जी- 'मतभेद तो मियां-बीबी में भी होते हैं'

विराट से अपने रिश्ते को लेकर क्यों बोले नेहरा जी- 'मतभेद तो मियां-बीबी में भी होते हैं'

अंग्रेजी सरजमीं पर भारत को टेस्ट सीरीज जीते 11 साल बीत चुके हैं . गोरों की धरती पर भारत ने आखिरी टेस्ट सीरीज 2007 में जीती थी. इसके बाद के 2 दौरों पर भारत को वहां करारी शिकस्त झेलनी पड़ी. ऐसे में विराट के सामने अब अपनी कप्तानी में इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज जीत के एक दशक के सूखे को खत्म करना चाहते हैं. इसके अलावा बल्लेबाजी में भी विराट इंग्लैंड में अपना खराब रिकॉर्ड दुरुस्त करना चाहते हैं. दरअसल, दुनिया के हर कोने में रन बना चुके विराट का सबसे खराब बैटिंग औसत इंग्लैंड में ही है. साल 2014 के दौरे पर टीम इंडिया के साथ इंग्लैंड गए विराट ने 13.40 की मामूली औसत से रन बनाए थे. 5 टेस्ट मैचों का विराट का स्कोर कार्ड 1,8, 25,0,39,28,0,7,6 और 20 रन का था.

‘काउंटी में विदेशी सितारों पर लगे प्रतिबंध’

इंग्लैंड के लिए 90 टेस्ट मैचों में 325 विकेट लेने वाले इस 6 फुट 6 इंच लंबे गेंदबाज ने कहा कि इंग्लैंड को सभी विदेशी खिलाड़ियों पर काउंटी में खेलने पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए. उन्होंने कहा , ‘मैं काउंटी क्रिकेट में विदेशी खिलाड़ियों के खेलने का समर्थक नहीं हूं. मुझे समझ नहीं आता कि हम उन्हें क्यों खिलाते हैं.’ कोहली के अलावा, चेतेश्वर पुजारा यॉर्कशायर और ईशांत शर्मा ससेक्स के लिए काउंटी क्रिकेट खेलते दिखेंगे.

जुलाई से शुरू हो रहे भारत के इंग्लैंड दौरे पर 5 टेस्ट, 6 वनडे और 3 T20 मैचों की सीरीज खेली जाएगी. दोनों टीमों के बीच पहला टेस्ट 1 अगस्त से एजबेस्टन में खेला जाएगा.