तियानजिन: दिग्गज टेनिस स्टार लिएंडर पेस डेविस कप में सर्वाधिक युगल मैच जीतने का रिकॉर्ड अपने नाम करने का एक और प्रयास करेंगे जब भारत शुक्रवार से शुरू होने वाले विश्व ग्रुप प्लेऑफ में चीन के खिलाफ उसकी सरजमीं पर बेहद शीत परिस्थितियों में खेलने के लिये उतरेगा. भारत को कई यादगार जीत दिलाने वाले 44 बरस के पेस के नाम 42 युगल जीत दर्ज है और इटली के निकोला पीट्रांजेली के साथ संयुक्त रूप से रिकॉर्ड उनके नाम पर है. वह एक और मुकाबला जीतते हैं तो डेविस कप के इतिहास में सबसे सफल युगल खिलाड़ी बन जायेंगे.

पेस के पास फरवरी 2017 में भी यह रिकॉर्ड बनाने का मौका था जब भारत ने पुणे में न्यूजीलैंड से खेला था लेकिन उस मैच में भारत सिर्फ युगल मुकाबला ही हारा था. उज्बेकिस्तान के खिलाफ बेंगलुरू में हुए मुकाबले में कप्तान महेश भूपति ने पेस को बाहर करके श्रीराम बालाजी और रोहन बोपन्ना को उतारा था. ये दो मौके थे जब पेस के पास अपने दर्शकों के सामने रिकॉर्ड बनाने का मौका था. अब टीम में जगह दोबारा बनाने और पिछले कुछ महीने में अच्छे प्रदर्शन के बाद उनके पास हजारों मील दूर परदेस में यह रिकॉर्ड बनाने का मौका है.

पेस ने कहा, ‘चीन को चीन में हराना कठिन होगा. उनके पास एक जूनियर खिलाड़ी है जिसने अमेरिकी ओपन जीता है. उनकी युगल टीम ने न्यूजीलैंड को हराया है लिहाजा यह कठिन होगा. चीन एक टीम के रूप में अच्छा खेलता है. मेरे लिये अहम यह है कि हम टीम के रूप में जीते. इस मुकाबले की तैयारी के दौरान भी विवाद पैदा हो गया था जब रोहन बोपन्ना ने पेस के साथ खेलने से इनकार कर दिया. पेस का मानना है कि इससे उनके प्रदर्शन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा, ‘मेरा हमेशा से मानना रहा है कि रोहन और मैं मिलकर अच्छी टीम बनाते हैं. उसकी ताकत और मेरा नियंत्रण. उसकी सर्विस और मेरा नेट खेल. मुझे रोहन के साथ खेलकर खुशी होगी’भारत के टॉप एकल खिलाड़ी युकी भांबरी चोट के कारण नहीं खेल रहे हैं जिनकी जगह रामकुमार रामनाथन को उतारा जायेगा. यह मुकाबला दो दिवसीय प्रारूप में खेला जाएगा जिसमें ‘बेस्ट ऑफ फाइव’ की बजाय ‘बेस्ट ऑफ थ्री’ मैच खेले जाएंगे.

पेस ने कहा कि हमें युकी की कमी खलेगी. उसने पिछले महीने शानदार प्रदर्शन किया है और वह सर्वश्रेष्ठ फार्म में है. कागजों पर भारतीय टीम ने निश्चित तौर पर मजबूत दिख रही है. उसके दोनों युगल खिलाड़ियों रामकुमार(132) और सुमित नागल(213) की रैंकिंग अपने प्रतिद्वंद्वियों झी झांग(247) और दी वू(248) से बेहतर है. चीन के पास यिबिंग वू के रूप में बेहतरीन खिलाड़ी है जो फिलहाल जूनियर विश्व रैंकिंग में टॉप पर है. वह पहले मैच में रामकुमार से खेलेगा. इसके बाद सुमित का सामना झांग से होगा. शनिवार को पेस और बोपन्ना की टक्कर दि वू और माओ शिन गोंग से होगी. युगल के बाद उलट एकल खेले जायेंगे.

भारतीय कप्तान भूपति ने कहा, ‘यह अच्छा है कि मुकाबले की शुरूआत राम कर रहा है. उसके पास काफी अनुभव है और उसे अच्छा खेल दिखाना चाहिए.’ परिस्थितियों के बारे में भूपति ने कहा कि परिस्थितियां काफी कड़ी है और जो भी खिलाड़ी मानसिक तौर पर मजबूत होगा उसे फायदा मिलेगा. यहां काफी ठंड है. भारतीय कोच जीशान अली ने कहा कि परिस्थितियां काफी कड़ी हैं और बहुत अधिक ठंड है. लेकिन हमें पूरे साहस के साथ खेलना होगा क्योंकि डेविस कप में कम तापमान का कोई नियम नहीं है. उम्मीद है कि राम हमें अच्छी शुरूआत देगा और सुमित कम दबाव के साथ खेलेगा. (इनपुट-भाषा)