नई दिल्ली| मिताली राज महिला क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली बल्लेबाज हैं. इसमें उनकी मेहनत और रनों की भूख सबसे बड़ा कारण है. लेकिन इस लंबे सफर में मिताली को यहां तक पहुंचाने में ‘क्रिकेट के भगवान’ कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के बल्ले का भी रोल है और मिताली को लगातार खेलने के लिए प्रेरित करने के लिए सचिन के शब्दों का भी. सचिन ने एक समय मिताली को बल्ला तोहफे में दिया था और मिताली ने उस बल्ले खूब रन बनाए. मिताली के साथ अभी भी वह बल्ला है.

मिताली का कहना है कि सचिन को उन्हें अभी एक और बल्ला तोहफे में देना है. सचिन और मिताली बुधवार को राष्ट्रीय राजधानी में अंतर्राष्ट्रीय बालिक दिवस (11 अक्टूबर) के मौके पर यू्निसेफ द्वारा आयोजित कराए गए कार्यक्रम ‘बालिका सशक्तिकरण में खेलों की अहमित’ में शिरकत करने आए थे. इस दौरान मिताली ने इस राज को पहली बार दुनिया के सामने उजागर किया.

मिताली ने कहा कि ऐसा भी मौका आया था जब सचिन ने मुझे अपना बल्ला तोहफे में दिया था. मैंने उस बल्ले से काफी रन बनाए. वो बल्ला अभी भी मेरे पास है. सचिन को अभी मुझे एक और बल्ला देना है. इस पर सचिन ने तुरंत कहा कि मैं चाहता था कि ये न रुकें इसलिए बल्ला तोहफे में दिया. मैं बल्ला लेकर आया हूं और आपको दूंगा. 2021 (अगला आईसीसी महिला विश्व कप) ज्यादा दूर नहीं है.

1 नवंबर को न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेंगे नेहरा!

1 नवंबर को न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच में इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेंगे नेहरा!

मिताली जब विश्व कप के बाद भारत लौटी थीं तब उनसे सभी ने सवाल किया था कि क्या वह चार साल बाद विश्व कप में खेलेंगी? इस सवाल का जवाब देते हुए मिताली ने कहा था कि वह जब तक फिट हैं तब तक खेलेंगी, लेकिन मिताली ने इस कार्यक्रम में अपने अगले विश्व कप में खेलने की संभावनाओं को जिंदा रखने की असल वजह बताई और कहा कि वह सचिन के कारण ही प्रेरित होकर अगले विश्व कप की दौड़ में शामिल हैं.

मिताली ने कहा कि जब मैंने 6,000 रन पूरे किए थे तब सचिन सर ने मुझे बधाई दी थी और कुछ ऐसा कहा जो मुझे अभी तक याद है और हमेशा मेरे साथ रहेगा. सचिन ने कहा था कि हार नहीं मानना. अगर तुम्हें लगता है कि तुम कुछ और साल खेल सकती हो तो खेलना. जब मैं विश्व कप खेल कर लौटी तो मुझे सवाल किए गए कि क्या मैं अगला विश्व कप खेलूंगी या नहीं, इस सवाल को सुनकर मुझे सचिन सर की बात याद आ गई थी.

मिताली ने कहा कि आईसीसी महिला विश्व कप फाइनल से पहले उन्होंने सचिन से टीम को प्रेरित करने की दरख्वास्त की थी जिसे इस महान बल्लेबाज ने मान लिया था. मिताली ने कहा कि जब हम फाइनल में पहुंचे तो मैंने सचिन सर से कहा कि आप टीम के साथ कुछ वक्त बिताएं और उन्हें प्रोत्साहन दें क्योंकि आपके पास काफी अनुभव है. इन्होंने मेरे उस प्रस्ताव को मान लिया. सचिन विश्व क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं वहीं मिताली उन्हीं के रास्ते पर चल रहीं हैं और महिला क्रिकेट में रनों के मामले में सबसे आगे हैं.