नई दिल्ली: भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज रहे नयन मोंगिया के बेटे मोहित मोंगिया ने उनकी क्रिकेट विरासत को बखूबी संभाल लिया है. संभालने के अलावा उन्होंने अपने पिता के तीस साल पुराने रिकॉर्ड को भी तोड़ डाला. मोहित इन दिनों अंडर-19 क्रिकेट में हैं और बड़ौदा टीम की कप्तानी कर रहे हैं. हाल ही में उन्होंने अपने पिता के उच्चतम स्कोर के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है.

कूच बिहार ट्रॉफी के दौरान मोहित ने मुंबई के खिलाफ 246 गेंदों में नाबाद 240 रनों की पारी खेली. यह बड़ौदा और कूच बिहार ट्रॉफी में किसी बल्लेबाज का सर्वाधिक स्कोर है. इससे पहले नयन मोंगिया ने 1988 में केरल के खिलाफ 224 रन बनाए थे.

कूच बिहार ट्रॉफी के इस मुकाबले में केरल ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 370 रन बनाए थे. मोहित के दोहरे शतक की बदौलत बड़ौदा ने दिन का खेल खत्म होने तक 7 विकेट पर 409 रन बना लिए थे, मोहित नाबाद लौटे.

अपने बेटे की इस कामयाबी पर नयन मोंगिया की खुशी का ठिकाना नहीं रहा. उन्होंने कहा, ”मैं बहुत खुश हूं कि मेरे बेटे ने इस रिकॉर्ड को तोड़ा है. मोहित शानदार खेल रहा है और वह इस रिकॉर्ड के योग्य भी है.’

बता दें कुछ दिनों पहले मोहित ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वह अपने पिता की तरह विकेटकीपर इसलिए नहीं बने क्योंकि उनके पिता ने बताया था कि विकेटकीपिंग की ज्यादा कद्र नहीं होती.