नई दिल्ली: अपने पहले खिताब की तलाश में लगी इंडियन टी-20 लीग की दो टीमें दिल्ली और पंजाब रविवार को लीग के 11वें संस्करण के अपने पहले मुकाबले में जीत के साथ टूर्नामेंट का आगाज करना चाहेंगी. दिल्ली और पंजाब की टीमें लीग के इतिहास में अब तक एक बार भी चैंपियन नहीं बनी हैं. हालांकि इस बार दोनों टीमें अपने नए कप्तानों के साथ टूर्नामेंट में उतरी हैं और दोनों कप्तानों ने अपनी-अपनी टीम को चैंपियन भी बनाने का वादा किया है.

दिल्ली की टीम जहां गौतम गंभीर की अगुवाई में, तो वहीं पंजाब की टीम अपने नए कप्तान रविचंद्रन अश्विन की अगुवाई में मैदान में उतरकर जीत के साथ टूर्नामेंट की शुरुआत करना चाहेगी. मेजबान पंजाब को अपने विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल से इस बार धुआंधार शुरुआत की उम्मीद होगी. गेल, मयंक अग्रवाल के साथ पारी का आगाज कर सकते हैं.

सौरव गांगुली ने की भविष्यवाणी, ऐसा हुआ तो कोहली बिना शर्ट के ऑक्सफोर्ड में घूमेंगे

अग्रवाल ने घरेलू सत्र में अब तक 2000 से भी अधिक रन बनाए हैं, इसके बावजूद श्रीलंका में हुई त्रिकोणीय सीरीज के लिए राष्ट्रीय चयनकर्ताओं ने उन्हें नजरअंदाज कर दिया था. लेकिन यहां पर अग्रवाल के पास खुद को साबित करने और चयनकर्ताओं को जवाब देने का मौका रहेगा. इसके अलावा टीम के सबसे अनुभवी बल्लेबाज लोकेश राहुल, युवराज सिंह, डेविड मिलर, मार्कस स्टोयनिस और अक्षर पटेल टीम की बल्लेबाजी को मजबूती दे सकते हैं. गेंदबाजी में अश्विन पंजाब की नैया पार लगा सकते हैं.

IPL2018: दिल्ली को मिला रबाडा का विकल्प, इंग्लैंड के दिग्गज खिलाड़ी को टीम में शामिल किया

दूसरी तरफ दिल्ली की टीम कोलकाता को दो बार चैंपियन बनाने वाले गंभीर के अनुभव से इस बार कुछ नया कर सकती है. बल्लेबाजी में गंभीर कोलिन मुनरो के साथ ओपनिंग में उतरेंगे, जबकि ऋषभ पंत, श्रेयस अय्यर और विस्फोटक बल्लेबाज ग्लैन मैक्सवेल दिल्ली की बल्लेबाजी को मजबूती देंगे. ऑलराउंडर विजय शंकर और क्रिस मोरिस भी अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं. गेंदबाजी में अमित मिश्रा और शाहबाज नदीम के अलावा ट्रेंट बोल्ट युवा गेंदबाजों के साथ मिलकर पंजाब के बल्लेबाजों की चुनौती को रोक सकते हैं. पंजाब और दिल्ली ने अबतक कुल 20 मुकाबले खेले हैं, जिसमें पंजाब ने 11 और दिल्ली ने नौ मैच जीते हैं.