भारत के नए कोच रवि शास्त्री को सालाना 7 से 7.5 करोड़ रुपये का वेतन दिए जाने की संभावना है. पूर्व कोच अनिल कुंबले ने कोच को इतनी ही सैलरी दिए जाने का प्रस्ताव बीसीसीआई के सामने रखा था. अब बीसीसीआई सूत्रों के मुताबिक शास्त्री को बीसीसीआई इतना ही वेतन दे सकती है. अगर ऐसा होता है तो ये वेतन पूर्व कोच अनिल कुंबल से ज्यादा होगा, जिन्हें कोच के तौर पर सालाना 6.25 करोड़ रुपये मिलते थे.

बीसीसीआई के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, ‘बीसीसीआई शास्त्री को 7 करोड़ रुपये से ज्यादा का ऑफर देने जा रही है. पूर्व कोच अनिल कुंबले ने मई में बीसीसीआई के सामने अपनी प्रेजेंटेशन में इतनी ही सैलरी दिए जाने का प्रस्ताव रखा था. लेकिन ये 7.5 करोड़ रुपये से ज्यादा नहीं हो सकता है.’

इससे पहले टीम इंडिया के डायरेक्टर के तौर पर भी शास्त्री को 7 से 7.5 करोड़ रुपये दिए गए थे. वहीं सूत्र के मुताबिक शास्त्री के साथ काम करने वाले सपोर्ट स्टाफ, यानी कि बैटिंग, बॉलिंग और फील्डिंग कोच को 2 करोड़ रुपये सालाना से ज्यादा का वेतन नहीं दिए जाएगा.

लेकिन अगर शास्त्री की मांग के अनुसार भारत अरुण की बॉलिंग कोच के तौर पर नियुक्ति होती है और वर्तमान बैटिंग कोच संजय बांगड़ को पद पर बनाए रखा जाता है तो उनकी सैलरी में काफी बढ़ोतरी होगी.

वहीं अंडर-19 और इंडिया- ए के कोच राहुल द्रविड़ का पहले साल के लिए 4.5 करोड़ रुपये का करार है और दूसरे साल उन्हें 5 करोड़ रुपये मिलेंगे. वहीं विदेशी दौरों पर टीम इंडिया के बल्लेबाजी सलाहकार की जिम्मेदारी भी मिलने पर द्रविड़ को और भी पैसे मिलेंगे. वहीं बॉलिंग कोच के तौर पर अभी जहीर खान की नियुक्ति को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है. जहीर का करार उनकी उपलब्धता के आधार पर तय होगा. जहीर ने पिछले साल बॉलिंग कोच बनने के लिए 100 दिनों के लिए 4 करोड़ रुपये मांगे थे, जिसे बोर्ड ने ठुकरा दिया था.

बोर्ड जल्द से जल्द इन सभी के करार को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है.