टीम इंडिया ने शनिवार को श्रीलंका के खिलाफ पल्लेकेले टेस्ट में शिखर धवन के शतक और केएल राहुल के अर्धशतक की बदौलत पहले दिन का खेल खत्म होने तक पहले बैटिंग करते हुए 6 विकेट पर  329 रन बनाए. दिन का खेल खत्म होने के समय रिद्धिमान साहा 13 और हार्दिक पंड्या 1  रन बनाकर क्रीज पर थे. पहले दिन का आकर्षण शिखर धवन (119) का तूफानी शतक, केएल राहुल (85) की रिकॉर्ड हाफ सेंचुरी और इन दोनों के बीच पहले विकेट के लिए हुई रिकॉर्ड साझेदारी रही. पहले दिन श्रीलंका के लिए पुष्पकुमारा ने 3 जबकि चाइनामैन गेंदबाज लक्षण संदकन ने 2 विकेट और विश्व फर्नांडो ने एक विकेट लिया.

टॉस जीतकर पहले बैटिंग के लिए उतरी टीम इंडिया को शिखर धवन और केएल राहुल ने तूफानी शुरुआत दिलाई. इन दोनों ने करीब 5 की औसत से रन बटोरे और किसी भी श्रीलंकाई गेंदबाज को नहीं बख्शा. धवन ने महज 107 गेंदों में इस सीरीज का दूसरा और अपने करियर का छठा टेस्ट शतक 15 चौकों की मदद से जमाया. इस बीच केएल राहुल ने भी 67 गेंदों में 4 चौकों की मदद से अपने करियर की नौवीं और लगातार सातवीं पारी में हाफ सेंचुरी बनाई.  (धवन ने श्रीलंका के खिलाफ ठोका तूफानी शतक, बनाया राहुल के साथ ओपनिंग साझेदारी का नया रिकॉर्ड)

लगातार सात टेस्ट पारियों में हाफ सेंचुरी बनाने वाले राहुल दुनिया के छठे बल्लेबाज बने और उन्होंने वेस्टइंडीज के एवर्टन वीक्स, जिम्बाब्वे के एंडी फ्लावर, वेस्टइंडीज के शिव नारायण चंद्रपॉल, श्रीलंका के कुमार संगकारा और ऑस्ट्रेलिया के क्रिस रोजर्स की बराबरी की. साथ ही वह यह कारनामा करने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए और उन्होंने लगातार छह पारियों में अर्धशतक जमाने के राहुल द्रविड़ और गुंडप्पा विश्वनाथ के रिकॉर्ड को तोड़ा. (फिर चला केएल राहुल का बल्ला, राहुल द्रविड़ का रिकॉर्ड तोड़कर की विश्व रिकॉर्ड की बराबरी)

श्रीलंका के लिए पहले दिन मलिंदा पुष्पकुमारा ने तीन विकेट झटके (Getty)
श्रीलंका के लिए पहले दिन मलिंदा पुष्पकुमारा ने तीन विकेट झटके (Getty)

राहुल 135 गेंदों में 8 चौकों की मदद से 85 रन की शानदार पारी खेलकर पुष्पकुमारा का शिकार बने. आउट होने से पहले उन्होंने धवन के साथ पहले विकेट की साझेदारी में 188 रन जोड़कर श्रीलंका में किसी भी विदेशी टीम द्वारा पहले विकेट की सबसे बड़ी साझेदारी का रिकॉर्ड बनाया और 1993 में कोलंबो टेस्ट में पहले विकेट के लिए की गई मनोज प्रभाकर और नवजोत सिंह सिद्धू की 171 रन की साझेदारी का रिकॉर्ड तोड़ा.

धवन के आउट होने के बाद भारत ने लगातार अपने विकेट खोए और स्कोर 188/0 से 296/5 हो गया और भारत ने अपने 5 विकेट 108 रन में खो दिए. भारत का दूसरा विकेट धवन के रूप में गिरा, जो 123 गेंदों में 17 चौकों की मदद से 119 रन बनाकर पुष्पकुमारा का दूसरा शिकार बने. 229 के स्कोर पर पुजारा 8 रन बनाकर आउट हो गए. रहाणे भी नहीं चले और 17 रन बनाकर 264 के स्कोर पर पुष्पकुमारा का तीसरा शिकार बने. 296 के स्कोर पर कप्तान कोहली को संदकन ने आउट किया. कोहली 84 गेंदों में 3 चौकों की मदद से 42 रन बनाकर आउट हुए. खेल समाप्ति से दो ओवर पहले 322 रन के स्कोर पर अश्विन 31 रन बनाकर आउट हुए.