शिखर धवन ने श्रीलंका के खिलाफ पल्लेकेले में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट के पहले दिन शनिवार को अपने टेस्ट करियर छठा शतक बनाया. धवन ने महज 107 गेंदों में 15 चौकों की मदद से तूफानी शतक जमाया. ये इस सीरीज में धवन का दूसरा शतक है और श्रीलंका में उन्होंने अपना तीसरा शतक जमाया. इससे पहले उन्होंने गॉल में खेले गए पहले टेस्ट में 190 रन की जोरदार पारी खेली थी. श्रीलंका में तीसरा टेस्ट शतक जड़कर धवन ने पुजारा और सहवाग के रिकॉर्ड की बराबरी की, श्रीलंका में सबसे ज्यादा शतक (5 शतक) बनाने का भारतीय रिकॉर्ड सचिन के नाम है. धवन 123 गेंदों में 17 चौकों की मदद से 119 रन बनाकर पुष्पकुमारा की गेंद पर आउट हुए.

धवन ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग के लिए उतरी टीम इंडिया के लिए पहले विकेट के लिए केएल राहुल के साथ मिलकर 188 रन की जोरदार साझेदारी करते हुए नया इतिहास रचा. धवन और राहुल ने श्रीलंका में किसी भी विदेशी टीम द्वारा पहले विकेट की सबसे बड़ी साझेदारी का रिकॉर्ड बनाया. इन दोनों ने 1993 में मनोज प्रभाकर और नवजोत सिंह सिद्धू द्वारा पहले विकेट के लिए की गई 171 रन की साझेदारी का रिकॉर्ड तोड़ा.

केएल राहुल 135 गेंदों में 85 रन की पारी खेलकर आउट हुए, उन्होंने लगातार सातवीं पारी में हाफ सेंचुरी बनाते हुए नया भारतीय रिकॉर्ड बनाया और लगातार छह अर्धशतक जड़ने का राहुल द्रविड़ और गुंडप्पा विश्वनाथ का रिकॉर्ड तोड़ा. (फिर चला केएल राहुल का बल्ला, तीसरे टेस्ट में श्रीलंका के खिलाफ हाफ सेंचुरी जड़कर रचा इतिहास)

हालांकि राहुल के नाम लगातार सातवीं बार 50 प्लस स्कोर बनाने के बाद भी उसे शतक में न बदल पाने का रिकॉर्ड दर्ज हो गया और उन्होंने इस मामले में ऑस्ट्रेलिया के क्रिस रोजर्स के रिकॉर्ड की बराबरी की. राहुल ने लगातार सातवीं बार अर्धशतक बनाने के बावजूद शतक न बना पाने के मामले में एलन बॉर्डर, राहुल द्रविड़ और मिस्बाह उल हक का रिकॉर्ड तोड़ा, जो लगातार छह बार अर्धशतक बनाने के बावजूद उसे शतक में नहीं बदल पाए थे.

(अभिषेक पाण्डेय द्वारा लिखित)