कोलंबो। श्रीलंका के पूर्व बल्लेबाज चमारा सिल्वा को इस साल के शुरू में प्रथम श्रेणी मैच के दौरान कथित मैच फिक्सिंग में लिप्त रहने के कारण सभी तरह की क्रिकेट गतिविधियों से दो साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया है.

श्रीलंका क्रिकेट (एसएलसी) ने 23 से 25 जनवरी के बीच पनाडुरा क्रिकेट क्लब और कालुतारा फिजिकल कल्चर क्लब मैच के तीसरे दिन की घटनाओं की सात महीने तक चली जांच के बाद यह घोषणा की. एसएलसी ने यह पता करने के लिए जांच बिठाई थी कि क्या इन दो क्लबों के बीच का मैच फिक्स था क्योंकि एक दिन में 24 विकेट गिरे तथा केवल 13.4 ओवर में 165 रन का लक्ष्य हासिल कर लिया गया.

इस मैच में पनाडुरा की कप्तानी कर रहे सिल्वा पर दो साल के लिए खेलने, कोचिंग देने या प्रशासन में काम करने से प्रतिबंधित कर दिया गया है. उन्होंने 1999 से 2011 के बीच श्रीलंका की तरफ से 11 टेस्ट और 75 वनडे मैच खेले थे. कालुतारा क्लब के कप्तान मनोज देशप्रिय को भी सिल्वा जैसी ही सजा सुनायी गई है. दोनों टीमों के अन्य खिलाड़ियों और उनके कोचों को एक साल के लिए प्रतिबंधित किया गया है. दोनों क्लबों पर पांच लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.