नई दिल्ली. केपटाउन का बॉल टेंपरिंग कांड स्मिथ और वॉर्नर के लिए गले की हड्डी बन गया है. ये साए की तरह उनका पीछा कर रहा है. इसकी वजह से उन्हें काफी परेशानियों से दो-चार होना पड़ा है. सबसे बड़ा झटका इस विवाद के तूल पकड़ने के बाद इन्हें ये लगा है कि स्मिथ और वॉर्नर दोनों के ही क्रिकेट खेलने पर एक साल का बैन लगा दिया गया है. लेकिन अब एक इससे भी तगड़ा झटका इन दोनों को लगा है. क्रिकेट खेलने से बैन किए जाने के बाद अब ये दोनों खिलाड़ी क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के कॉन्ट्रेक्ट लिस्ट से भी बाहर हो गए हैं. ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड ने उन्हें खिलाड़ियों के साथ अपने नए करार की फेहरिस्त से आउट कर दिया है.

20 क्रिकेटरों की लिस्ट में वॉर्नर-स्मिथ नहीं

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने पिछले 12 महीने के प्रदर्शन के आधार 20 ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का खाका तैयार किया है और 2018-19 सीजन के लिए उनके साथ करार किया है. इनमें 5 नए कंगारू चेहरों को तो मौका दिया गया है पर स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर का नाम करार की लिस्ट से नदारद है.

बॉल टेंपरिंग ने मार डाला !

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के करार में स्मिथ और वॉर्नर का नाम नहीं होने का सीधा मतलब उनके केपटाउन विवाद से लगाया जा रहा है. साउथ अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट में कंगारू टीम के सलामी बल्लेबाज बेनक्रॉफ्ट को गेंद से छेड़छाड़ करते हुए कैमरे ने पकड़ा. उसी दिन खेल खत्म होने के बाद पोस्ट मैच कॉन्फ्रेंस में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ ने इसमें खुद का हाथ होने की बात स्वीकारी. फिर जैसे-जैसे इस घटना की परतें खुलती गईं इससे जुड़ी हर चीज बाहर आने वाली, जिसमें मास्टर माइंड के तौर पर डेविड वॉर्नर का नाम सामने आया. इसके बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने बेनक्रॉफ्ट पर 9 महीने जबकि वॉर्नर और स्मिथ पर 12-12 महीने का प्रतिबंध लगाया.

इन खिलाड़ियों को मिली जगह

बहरहाल, वॉर्नर और स्मिथ तो क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के करार की लिस्ट से आउट हो गए. लेकिन, इसमें तेज गेंदबाज जे रिचर्ड्सन, केन रिचर्डसन, एंड्रयू टाई, मार्क्स स्टोनिस औक एलेक्स कारे अपनी जगह पक्की करने में कामयाब रहे. इनके अलावा करार में नए टेस्ट कप्तान टिम पेन, शॉन मार्श, जैक्सन बर्ड, एडम जाम्पा. हिल्टन कार्टराइट और विकेटकेकीपर बल्लेबाज मैथ्यू वेड को भी जोड़ा गया है.