दरभंगा. ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय (एलएनएमयू) में चल रही पूर्वी क्षेत्र अंतर विश्वविद्यालय पुरुष कबड्डी प्रतियोगिता के मार्च पास्ट में ट्रैकसूट नहीं होने के कारण तिलका मांझी भागलपुर विश्वविद्यालय (टीएमयू) के खिलाड़ी मार्च पास्ट में शामिल नहीं हो सके. आरोप है कि विश्वविद्यालय प्रशासन ने ट्रैकसूट उपलब्ध नहीं कराए, जिसके कारण खिलाड़ियों का मार्च पास्ट में शामिल होने का सपना पूरा नहीं हो सका.

विश्वविद्यालय प्रशासन हालांकि इन आरोपों को राजनीति के तहत बदनाम करने की साजिश बता रहा है. पूर्वी क्षेत्र अंतर विश्वविद्यालय पुरुष कबड्डी प्रतियोगिता में 11 राज्यों की करीब 45 टीमें भाग ले रही हैं. रविवार से प्रारंभ पांच दिवसीय इस प्रतियोगिता में मार्च पास्ट मुख्य आकर्षण का केंद्र रहा.

गेंदबाज कुलदीप यादव का चौंकाने वाला बयान, टीम में जगह न मिलने पर करना चाहता था सुसाइड

गेंदबाज कुलदीप यादव का चौंकाने वाला बयान, टीम में जगह न मिलने पर करना चाहता था सुसाइड

इस मार्च पास्ट में आत्मविश्वास से लबरेज सबसे आगे भुवनेश्वर के उत्कल विश्वविद्यालय की टीम के खिलाड़ी चल रहे थे. दो पंक्तियों में कतारबद्घ इस टीम के नेतृत्वकर्ता ने केसरिया रंग का झंडा थाम रखा था. इसके पीछे यूनिवर्सिटी ऑफ नॉर्थ बंगाल की टीम और झारखंड के रांची विश्वविद्यालय की टीम लाल झंडे के साथ चल रही थी.

चौथे नंबर पर वाराणसी के संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय की टीम ने केसरिया रंग के झंडे के साथ और कल्याणी विश्वविद्यालय की भी टीम ने इसी रंग के झंडे के साथ मार्च पास्ट किया. सबसे पीछे ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के खिलाड़ी हल्के आसमानी रंग का झंडा लिए चल रहे थे.

इस बड़े आयोजन में मार्च पास्ट से तिलका मांझी विश्वविद्यालय के खिलाड़ियों को वंचित रहना पड़ा. कुछ खिलाड़ियों ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि उन्हें इस आश्वासन के साथ यहां भेजा गया था कि बाजार से ट्रैकसूट खरीदकर दे दिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं किया गया.